कानपुर के झकरकटी बस स्टैंड मे अवैध लोडिंग, अनलोडिंग का खेल जारी..दिलशाद अहमद

की लाइन टाइम्स ब्यूरो चीफ दिलशाद अहमद क्राइम रिपोर्टर मोहम्मद उमर के साथ…Key line times

कानपुर झकरकटी बस स्टैंड में अवैध लोडिंग अनलोडिंग क़ा खेल….

कानपुर, वर्तमान भाजपा सरकार चाहे जितने वादे कर ले पर भ्रष्टाचार खत्म करना अब इस सरकार के भी वश में नही रहा।इन दिनों कानपुर महानगर भ्रष्टाचार से ग्रसित हैं। हम बात कर रहे कानपुर झकरकटी बस स्टैंड की जहां सरकारी बसों में अवैध लोडिंग अनलोडिंग क़ा खेल जोरों शोरों से चल रहा हैं।बगैर मानक के बसों में पार्सल चढ़ाये जाते हैं जिसका कोई लेखाजोखा नही होता है यानी सरकार को तगड़ा चूना लगाया जा रहा हैं इन बसों में तेल तो सरकार क़ा होता हैं पर माल पार्सल क़ा पैसा बस कंडेक्टर और ड्राइवर की जेब में जाता हैं।

ऎसा नही की इसकी जानकारी उच्चाधिकारियो को नही है सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार ये सारा गोरखधंधा इन अधिकारियों की मिलीभगत से हीं चल रहा हैं। वरना इतनी बड़ी मात्रा में माल पार्सल बसों में कैसे लादे जाते हैं। सूत्र तो ये भी कहते है कि ड्राइवर और कंडेक्टर कों यात्रियों से ज्यादा पार्सलों कि चिंता रहती है क्योंकि इन्हें एक एक पार्सल का 100 से लेकर 200 रूपये तक मिलता है ऎसे में आप समझ सकते है कि यदि ड्राइवर की सीट से लेकर डिग्गी तक यदि 10 से 20 पार्सल मिल गये तो औसतन 2 से 3 हजार डेली की ऊपरी कमाई हो जाती है ऎसा नही है कि ये सारा पैसा ड्राइवर और कंडक्टर की ही जेब में जाता है। इस पैसे का बंदरबांट ऊपर तक होता है।

बगैर जांचे बसों में पार्सल रखना हो सकता है घातक..

एक तो अवैध पार्सल बसों में लादे जाते हैं और दूसरा किसी भी पार्सल को सुरक्षा की दृष्टि से चेक भी नहीं किया जाता यानी बोरियों और गत्तों के अंदर क्या माल रक्खा हैं ये चेक करने की जहमत कोई भी कंडक्टर व ड्राइवर नही उठाता अब ऎसी स्थिति में बोरी या गत्तों के अंदर कोई संदिग्ध वस्तु रखी हों तो उसका जिम्मेदार कौन होगा।

यात्री सुविधाओं का हो रहा हनन

मानक के विपरीत बसों में जरूरत से ज़्यादा माल लादने की वजह से यात्रियों को बसों में बैठने में होती हैं दिक्कत पर कंडक्टर और ड्राइवर को इससे कोई लेना देना नही ।

Share this news:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *