ग्राम पंचायत भींयासर के जम्भसागर वर्तमान में पंचायत पुनर्गठन में प्रस्तावित होने के बाद जम्भसागर के ग्रामीणों में भारी आक्रोश है।

रामदेव बिश्ऩोई सजनाणी संवाददाता घंटियाली

जम्भसागर ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री, जिला कलेक्टर, उपखंड अधिकारी को ज्ञापन सौपने के बाद भी कोई विशेष आश्वासन नही दिया तो मंगलवार को जम्भसागर के 283 परिवार के सदस्यों ने अपने राशन कार्ड, जॉब कार्ड एकत्रित करके राजस्थान के उपमुख्यमंत्री व पंचायती राज मंत्री सचिन पायलट को डाक द्वारा भेज गया। साथ ही 17 सूत्री एक पत्र में डाक में एक पत्र भेजा है। जिसमें ग्राम पंचायत भींयासर जिसकी जनसंख्या 2011 के अनुसार 4950 में से एक राजस्व गांव बांसवाड़ा नगर को अलग कर नई ग्राम पंचायत प्रस्तावित कर उसकी सुनवाई। 31 अगस्त 2019 तक पूर्ण कर ली गई। बांसवाड़ा नगर की जनसंख्या 2011 की जनगणना के अनुसार की 1782 थी।30 सितम्बर 2019 के तहत जम्भसागर को ग्राम पंचायत भींयासर से अलग कर नई ग्राम पंचायत जम्भसागर को प्रस्तावित किया गया है। जिनको गलत दर्शाया गया है। मूल जनसख्या 3168 है। जिसमें कांग्रेस प्रदेश कमेटी सदस्य मोमराज डारा द्वारा अपनी राजनीति द्वेष भावना के तहत कार्य कर रहे है। इनके साथ ही बताया कि जॉब कार्ड व राशन कार्ड सरकार को भेजने का मुख्य कारण यह है। कि नरेगा के तहत जम्भसागर राजस्व गांव में कोई सरकारी जमीन, गोचर, ओरण नही है। आज तक तो भींयासर में ही नरेगा के तहत रोजगार मिला था। साथ ही श्मशान की भी भूमि नही है।उचित मूल्य की दुकान से गेहूं भींयासर से ही लेते है। ऐसे में भींयासर से अलग ग्राम पंचायत बन गई तो नरेगा से तहत रोजगार नही मिलेगा। इसलिए जॉब कार्ड से कोई कार्य नही हो पायेगा। वही वही राशन सामग्री नही मिलेगी। इस मीटिंग में खीयाराम, सहीराम ,रामजीलाल,लखुराम, बलवन्तराम, हेतराम, अशोक, सोढा राम, अर्जुनराम , केवलराम, दिनेश, लक्ष्मण पूनियां,खमु राम साहू सहित बड़ी संख्या में जम्भसागर के महिला व पुरुष थे।

Share this news:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *