इतिहासकारों ने दलित योद्धाओं के साथ न्याय नहीं किया है-मेघवाल

ब्यूरो चीफ अमर यादव जोधपुर।

जिले के फलोदी उपखंड क्षेत्र की ग्राम पंचायत धौलासर में स्थित जैसाणी कृषि फार्म हाउस पर बुधवार को महाराष्ट्र के भीमा कोरेगांव युद्ध की 202 वीं बरसी पर समता सैनिक दल तथा दलित अधिकार अभियान फलोदी के संयुक्त तत्वावधान में विचार संगोष्ठी का आयोजन किया गया,इस दौरान तत्कालीन पेशवा बाजीराव द्वितीय की फौज से लोहा लेते शहीद हुए दलित योद्धाओं को पुष्पाजंली अर्पित कर उनकी बहादुरी को नमन किया गया।इस अवसर पर विचार व्यक्त करते हुए समता सैनिक दल फलोदी के अध्यक्ष चंदन कुमार मेघवाल तथा महासचिव श्रवण कुमार लीलड़ ने कहा कि देश के इतिहासकारों ने भीमा कोरेगांव युद्ध को लेकर दलित योद्धाओं के साथ न्याय नहीं किया है,अत्याचारों तथा जातिय उत्पीड़न से पीड़ित 500 महार सैनिकों ने बाजीराव पेशवा की 28000 सैनिकों को धूल चटाते हुये पेशवा साम्राज्य का अंत किया था लेकिन देश के इतिहासकारों ने दलित योद्धाओं की इस बहादुरी को इतिहास के पन्नों में जगह नहीं दी,उन्होंने कहा कि अंग्रेजी हुकुमत की तरफ से प्रथम तथा द्वितीय विश्व युद्ध में शामिल होने वाले तत्कालीन सैनिकों को तो इतिहास में जगह दी गई है लेकिन दलित योद्धाओं को नजर अंदाज किया गया है।आपने कहा कि हजारों वर्षों की धार्मिक तथा जाति व्यवस्था से पीड़ित एंव वंचित लोगों को जब-जब मौका मिला उन्होंने अपनी दृढ मेहनत तथा योग्यता से अपना लोहा मनवाया है।इस अवसर पर श्रवणराम,दीनाराम, मघाराम,पीराराम,परमाराम, अमेदाराम,खेमाराम,पोकरराम, पुरखाराम,कमल किशोर, पेम्पाराम,महेंद्र परिहार,गेंपरराम, भंवरलाल,राकेश,नरेश,मनीष, सुरेंद्र,कुलदीप,अनिल कुमार, तेजपाल,कमलेश,रेवंतराम,ओम चिमाणा,लाछो देवी,चंपा देवी, सोनिया तथा विमला सहित दर्जनों ग्रामीण तथा विधार्थी उपस्थित थे।

Share this news:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *