बाड़मेर में ड्रोन से टिडडी नियंत्रण के लिए कीटनाशक का छिड़काव

बाड़मेर। जिले में टिडडी नियंत्रण के लिए पहली बार ड्रोन का इस्तेमाल किया गया। इससे करीब 50 फीसदी टिडडी नियंत्रित की गई। अतिरिक्त जिला कलक्टर राकेश कुमार शर्मा के साथ विभिन्न प्रशासनिक अधिकारियो ने धनाउ एवं सेड़वा में पहुंचकर टिडडी नियंत्रण गतिविधियो का जायजा लिया।

बाड़मेर जिले में सोमवार को धनाउ, श्रीरामवाला एवं रामसर पंचायत समिति क्षेत्र में टिडडी दल का हमला हुआ। इसमें धनाउ क्षेत्र में करीब 4 किमी लंबा एवं 1.5 किमी चौड़ाई वाला टिडडी दल था। इसी सूचना मिलने पर जन सहयोग एवं कृषि विभाग के 4 ट्रेक्टर मय पावर स्प्रेयर, टिड्डी चेतावनी सगंठन के 7 वाहन, एक फायर ब्रिगेड एवं ड्रोन के साथ पहुंचकर रात्रि 12 बजे टिडडी नियंत्रण की कार्रवाई शुरू की गई। मंगलवार को दोपहर 12 बजे तक लगातार टिडडी नियंत्रण के लिए कीटनाशक का छिड़काव करते हुए 130 हैक्टेयर मंे इनका नियंत्रण किया गया।

इस दौरान अतिरिक्त जिला कलक्टर राकेश कुमार शर्मा, चौहटन उपखंड अधिकारी वीरमाराम, विकास अधिकारी, कृषि विभाग के उप निदेशक किशोरीलाल वर्मा, सहायक निदेशक पदमसिंह भाटी, कृषि एवं टिडडी तथा राजस्व विभाग के अधिकारी एवं कार्मिक उपस्थित रहे। कृषि विभाग के उप निदेशक किशोरीलाल वर्मा ने बताया कि बाड़मेर जिले में टिडडी नियंत्रण के लिए ड्रोन का इस्तेमाल किया गया। यह ड्रोन सुमिटोमो प्राइवेट लिमिटेड कंपनी की ओर से उपलब्ध कराया गया। इस ड्रोन मंे कीटनाशी भरकर बड़े-बड़े रेतीले टीलो पर आसानी से टिडडी नियंत्रण का कार्य किया गया। टिडडी नियंत्रण के लिए जिला प्रशासन की ओर से टिडडी नियंत्रण के लिए रोशनी एवं पानी की व्यवस्था की गई। इससे करीब 50 फीसदी टिडडी नियंत्रण की गई। इसी तरह पंचायत समिति रामसर के भाचभर गांव मे में 2 किमी लम्बा एवं छितराया हुआ टिड्डी दल के नियंत्रण का कार्य 2 ट्रेक्टर मय पावर स्प्रेयर, एक फायर ब्रिगेड एवं टिड्डी चेतावनी संगठन की ओर से उपलब्ध कराई गई 2 गाडियांे के जरिए प्रभावी रूप से किया गया। इस दौरान कृषि एवं राजस्व विभाग के स्थानीय कर्मचारिययो के साथ बड़ी तादाद में ग्रामीण उपस्थित रहे।

Share this news:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *