बालेसर उपखंड क्षेत्र मे पिछले 5 दिनों से टिड्डीया बरपा रही है कहर,लगातार किसानों की फसलें कर रहा है बर्बाद

जोधपुर ब्यूरो चीफ अमर यादवबालेसर/जोधपुर । बालेसर क्षेत्र के केतू हामा,बाबा की निम्बडी़ मेहताबगढ रावतसिंह की ढाणियां,खिवजी ढाणियां मोकमगढ,रामदेव नगर,हटेसिहनगर,रोजडा़ धोरा,भगतगढ,सबलगढ सहित आसपास के गांवों में भारी तादाद में टिड्डीयो के दल ने किसानों के खेतों में गुरुवार शाम पांच बजे आई भारी मात्रा मे टिड्डीयो ने शुक्रवार दोपहर दो बजे तक खेतो खडी़ फसलों को चट कर दिया।किसानों द्वारा उडा़ने पर वह फसलों से टच से मच तक नहीं हो रहा था। किसानों के हालात बहुत खराब है, किसान टिड्डीयो से खराब हुई फसलो के नुकसान की भरपाई के लिए उचित समय पर खराबे का सर्वे करवाकर मुहावजा दिलवाने की मांग कर रहे है।टिड्डीयो को नियंत्रण मे करने के लिए प्रशासन की तरफ से फायर ब्रिगेड की गाड़ियों,निजी वाहनों से टीड्डी नियंत्रण के लिए कीटनाशक दवाइयों का छिड़काव किया गया,फिर भी टीड्डी पर कोई असर नहीं हुआ,नियंत्रण पाना प्रशासन के आपे है बाहर रहा। बालेसर क्षेत्र में पिछले 5 दिनों से किसानों के खेतों पर टिड्डी दल किसानों की फसलें चट कर बर्बाद कर रहा हैं । केतू हामा निवासी रेवत राम मेघवाल के खेत में खड़ी करीब पन्द्रह बीघा मे बोई जीरे की फसल को टीड्डी दल ने देखते ही देखते अपनी आंखों के सामने बर्बाद कर दिया,नष्ट होती फसल को देखकर रेवत राम की पत्नी तीजोदेवी बेहोश हो गई।रेंवतराम के पुत्र भोमाराम मेघवाल ने बताया की हमने इसी वर्ष लौगो से कर्ज लेकर बडे़ अरमान लेकर नलकूप खुदवाया था और पहली बार हमने खेत ने जीरे की फसल बोई जो टिड्डीयो ने देखते ही देखते पूरी साफ करली। भोमाराम का कहना है की जीरे की मंहगी फसल हमने यह सोचकर बोई की फसल लेकर छोटी बहिन मुमल की शादी धुमधाम से करेगें वही लौगो का कर्जा भी उतार देगें लेकिन हमारे सब अरमान धरे के धरे रह गए। धीरपुरा मोकमगढ रावतसिंह की ढाणियों मे कुंभसिंह पुत्र शैतान सिंह के खेत मे करीब पांच बीघा जमीन मे बोई जीरे की फसल पुरी तरह से साफ कर दी। इसी तरह मोकमगढ केतूहामा निवासी बाबूराम,भंवरीदेवी व जितेंद्र माली के खेत मे करीब बीस बीघा मे बोई जीरे की फसल को चट कर दिया।क्षेत्र किसान अपने खेतो मे गुरुवार शाम से लेकर शुक्रवार दोपहर दो बजे तक ढोल थाली बजाकर उडा़ने का कर प्रयास करते नजर आए । सूचना पर प्रशासन द्वारा किटनाशक दवाइयों का छिड़काव किया गया लेकिन टिड्डीयो पर उसका कोई असर नहीं हुआ।

इनका कहना

पिछले पांच दिनों से टिड्डीयो के हमले से क्षैत्र के किसानों की फसले बरबाद हो गई है

भंवर सिंह-केतू हामा

हमने टिड्डीयो को खुब उडा़ने की कोशिश की लेकिन हमारी कौशिश नाकाम रही सारी फसले बरबाद कर डाली

पुखराज सुथार-केतू सबलगढ़

हमारे खेत मोकमगढ रावतसिंह की ढाणियों मे खेत पांच बीघा मे बोई जीरे की फसल कर बरबाद कर चट गई।

भोमाराम मेघवाल-किसान केतूहामा

सूचना मिलने पर हम शुक्रवार सुबह से ही टीड्डीयो पर नियंत्रण हेतू टिड्डी नियंत्रण दल के सहयोग से मेलाथियान कीटनाशक दवाई का छिड़काव कर टीवी पर नियंत्रण पाने का कोशिश कर रहे हैं लेकिन बड़ी तादाद में टिड्डीया हमारे नियंत्रण से बाहर है।

कृषि अधिकारी पेपाराम एंव कृषि पर्यवेक्षक रमेश कुमार- चामू

Share this news:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *