हर हाथ कलम अभियान जरूरतमन्द विद्यार्थियों की आशा

Nirmal jain/key line times news

बिजोलिया जिला भीलवाड़ा राजस्थान निवासी अंशुल जैन देश मे जरूरतमन्द विद्यार्थियों के लिए स्टेशनरी बैंक की स्थापना करने वाले ऊर्जावान युवा है जिन्होंने राजस्थान के टोंक जिले से हर हाथ कलम अभियान का श्रीगणेश किया। सरकारी विद्यालयों में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिए प्रयासरत जैन का नाम आज देश का हर वो नवयुवक जानता है जो सरकारी विद्यालयों की कायापलट करने में लगा है।

सरकारी विद्यालयों के बच्चों को निशुल्क पेन पेंसिल रबर कटर, कॉपी स्केच पेन कलर बॉक्स ज्यामितीय बॉक्स पैमाना सहित शिक्षा व शिक्षार्थी के लिए काम आने वाली सभी वस्तुएं प्रदान करने में लगे हैं। एक अकेले जैन ने इस अभियान की शुरुआत की थी। आज देश के कई शिक्षक उनके साथ हो चले हैं।

हर हाथ कलम अभियान के तहत आधुनिक खिलौने की व्यवस्था, स्टेशनरी की व्यवस्था, वस्त्र की व्यवस्था, आदि के लिए सरकारी विद्यालयों में प्रतिदिन आयोजन हो रहे हैं।राजस्थान में अब तक प्रथम चरण कुल 22 जिलो में आयोजित हुआ जिसमें 13,772 कलम , एवम 8,300 पेंसिल वितरित हुई।

द्वितीय चरण में 16 जिलो में 66 मिनी स्टेशनरी बैंक अब तक खुल चुके है ।।। आगामी लक्ष्य 21,00 विद्यालयो में मिनी स्टेशनरी बैंक खोले जाएंगे, 251बुकबैंक(पुस्तकालय)हर हाथ कलम अभियान के तहत मकर सक्रांति पर शिक्षा दान की अनूठी पहल हुई जिसके तहत 84 राजकीय विद्यालयों में 2700 से ज्यादा अधिक बच्चों को स्टेशनरी किट वितरित की गई।।।

हर हाथ कलम अभियान के तहत बसंत पंचमी पर विद्यादान की अनूठी पहल की गई जिसके तहत 750 बच्चों को परीक्षा किट वितरित की गई।

जन्मदिन विशेष मनाने के लिए

हर हाथ कलम अभियान के तहत जन्मदिन को विशेष बनाने के लिए एक अनूठी पहल की शुरुआत की गई जिसके तहत जन्मदिन पर केक न काटकर जरूरतमंद बच्चों के बीच जाकर स्टेशनरी वितरण एवम स्टेशनरी बैंक खोले गए ।। अंशुल जैन ने बताया कि उन्हें यह प्रेरणा उनके माता पिता एवम उनकी बड़ी बहन अब इस दुनिया मे नही है ।वो भी राजकीय विद्यालय में अध्ययन करते थे उन्होंने बताया था कि राजकीय विद्यालय में ऐसे बच्चे भी अध्ययन करते है जिनके माता नही या पिता नही या फिर दोनो ही नही कही बच्चो की आर्थिक स्थिति खराब ऐसे बच्चो को विषम परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है । जब उन्होंने ऐसा देखा तो जैन के मन में ख्याल आया कि कुछ ऐसा किया जाए जिससे ऐसे बच्चों को बिना किसी बाधा के शिक्षा प्राप्त हो सके । वे स्टेशनरी बैंक के लिए पिछले 4 सालों से संघर्षरत थे और अब जाकर उन्हें सफलता मिली।।

पहला मिनी स्टेशनरी बैंक राजस्थान के सरकारी विद्यालय में खोला गया। प्रथम स्टेशनरी बैंक

राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय भवानीपुरा डिग्गी टोंक के विद्यार्थियों के चेहरे खिल उठे।

हर हाथ कलम अभियान को प्रचारित प्रसारित करने में आज कई शिक्षक जी जान से लगे हैं। ऐसे ही शिक्षकों में भवानीमंडी राजस्थान निवासी राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय सूलिया जिला झालावाड के शिक्षक राजेश कुमार शर्मा ने हर हाथ कलम अभियान गीत की रचना की जो देश के कई समाचार पत्रों ने प्रकाशित किया है। गीत के अंश प्रस्तुत है:-

हर_हाथ_कलम_अभियान_गीत

*************************

हर हाथ कलम अभियान चलाकर मानेंगे।

हम सरकारी स्कूल की सूरत बदल कर मानेंगे।।

श्रम से अपने बच्चों को आगे बढ़ाकर मानेंगे।

गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा का परचम हम ही लहरायेंगे।।

पेन पेंसिल और रबर से दुनियां का ज्ञान सिखाएंगे।

जरूरतमंद बच्चों की मदद करने हम आएंगे।।

गाँव गाँव ढाणी ढाणी मिलकर अलख जगायेंगे।

स्टेशनरी किट सजाकर स्कूल तक पहुचायेंगे।।

हर स्कूल में स्टेशनरी बैंक एक खुलवाएंगे।

सरकारी स्कूल शिक्षा को आगे हम बढ़ाएंगे।।

नहीं रुकेंगे नहीं झुकेंगे नहीं कोई विश्राम लेंगे।

हर हाथ कलम अभियान से शिक्षा का दीप जलाएंगे।।

तेजस्वी मन को शक्तिशाली भारत की नींव बनाएंगे।

हर प्रतिभा को निखार संवार कुशल बना दिखाएंगे।।

मिशन कलाम पूरा करने में अग्रणी रोल निभाएंगे।

हर घर गाँव शहर में शैक्षिक क्रांति लाएंगे।।

राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय धनावा पंचायत समिति हिंडोली जिला बूंदी की शिक्षिका रेहाना चिश्ती ने अपने चित्रों के माध्यम से हर हाथ कलम अभियान को प्रचारित प्रसारित कर महत्वपूर्ण योगदान किया है ।

उनके बनाये चित्र सोशल मीडिया में काफी पसंद किए जा रहे हैं।

राजेश कुमार शर्मा

अध्यापक राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय सूलिया जिला झालावाड राजस्थान

Share this news:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *