राजस्थान शिक्षक संघ(शेखावत)की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मीटिंग का आयोजन

जोधपुर।कोविड-19 के व्यापक संक्रमण एवं लॉकडाउन के चलते राजस्थान शिक्षक संघ(शेखावत)जिला कार्यकारिणी जोधपुर के समस्त पदाधिकारियों की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मीटिंग का आयोजन किया गया।मीटिंग में जिला स्तर,संभाग स्तर और ब्लॉक स्तर के प्रतिनिधियों ने भाग लिया।मीटिंग में समसामयिक विभिन्न मुद्दों पर विस्तृत विचार-विमर्श हुआ।तत्पश्चात कुछ निर्णय हुए जिन पर आगामी दिनों में कार्रवाई करने की बात जिला कार्यकारिणी स्तर से हुई।मीटिंग में सर्वप्रथम संभाग संयोजक भंवर काला ने कुछ दिवस पूर्व हुई प्रदेश कार्यकारिणी की मीटिंग में हुए निर्णयों से उपस्थित सदस्यों को अवगत करवाया यथा-कोविड-19 एवं लॉकडाउन के कारण प्रदेश स्तर के चुनाव,ब्लॉक स्तर पर प्राप्त शिक्षक अंशदान,सोशल डिस्टेनसिंग के दौर में सोशल मीडिया का व्यापक उपयोग एवं जानकारी व इसी के माध्यम से शिक्षकों की आवाज को उच्च स्तर तक पहुँचाना इत्यादि।जिलाध्यक्ष भवानीसिंह फड़ाक ने बताया कि वर्तमान में लॉकडाउन के कारण संघ शिक्षकों की वाजिब मांगों हेतु ट्विटर,ईमेल एवं अन्य मीडिया माध्यमों से सरकार तक अपनी बात पहुँचाती रही है,हमें इस संकटमय समय में अपने-अपने क्षेत्र में बिना किसी सुरक्षा-सुविधा के कार्य कर रहे शिक्षकों से सदैव संपर्क बनाए रखना है एवं बैठक में समाज,शिक्षक एवं स्वास्थ्य विभाग के साथ कंधे से कंधा मिलाकर कार्य करने का संकल्प दोहराया ।जिला महामंत्री ऋतुराज पारीक ने उपस्थित ने समस्त उपस्थित ब्लॉक प्रतिनिधियों से अपने-अपने क्षेत्र में कार्यरत शिक्षकों से फ़ोन,व्हाट्सएप्प के माध्यम से उनसे संपर्क कर उनके सामने आ रही समस्याओं-परेशानियों की सूची जिला स्तर तक पहुँचाने को कहा,जिससे उनकी वाजिब मांगों को जिला एवं प्रदेश स्तर के माध्यम से समाधान करने का प्रयास किया जा सके।कोविड-19 के व्यापक प्रभाव में हमें एक ओर इस संक्रमण से लडने हेतु सरकार का सहयोग भी करना है वहीं दूसरी ओर हमें शिक्षक समाज की आवाज को भी निरंतर आगे तक उठाना है।संभाग सहसंयोजक त्रिलोकराम नायल ने कुछ समस्याओं यथा-लॉकडाउन के प्रारंभ होने से अब तक ड्यूटी कर रहे शिक्षकों को ग्रीष्मावकाश में ड्यूटी करने पर उपार्जित अवकाश देने,असाध्य रोग के अतिरिक्त अन्य रोग से ग्रसित शिक्षक जिनमें उनकी इम्युनिटी पॉवर(रोग-प्रतिरिधक क्षमता)कम हो उन शिक्षकों को ड्यूटी से छूट देना,मुख्यालय से 40 किलोमीटर तक निवास करने वाले शिक्षकों को मुख्यालय पर ड्यूटी पश्चात रुकने हेतु पाबंद न करना,अन्य विभागीय कर्मचारी जिनकी ड्यूटी शिक्षकों के साथ लगाई गई है लेकिन वो न तो सम्बन्धित क्षेत्र में आते है और न ही अपनी नीयत ड्यूटी का ईमानदारी से निर्वाह करते हैअतःउनको पाबंद करवाना,अभी भी कई जगहों पर ड्यूटी कर रहे शिक्षकों को मास्क,सेनेटाइजर,एवं ग्लव्ज तक उपलब्ध नहीं करवाये गए अतः जिन कार्मिकों की इन उपकरणों को बांटने एवं सम्बन्धित क्षेत्र तक पहुंचाने की ड्यूटी है उन्हें इस कार्य हेतु पाबंद करवाना,जिन स्कूल वैलनेस सेन्टर पर वर्तमान में एक भी व्यक्ति क्वारन्टीन नहीं है उन जगहों पर रात्रिकालीन ड्यूटी नहीं लगाना,सरकारी दिशानिर्देशों में अंतरजिला आवागमन शुरू होने के पश्चात शिक्षकों की चेक-पोस्ट ड्यूटी को समाप्त करना,निरंतर कार्य कर रहे बी.एल.ओ.की सहायता हेतु सहायक कार्मिक लगाना इत्यादि मांगों को एक मांग पत्र के माध्यम से सरकार को प्रेषित करने की बात कही।
कोविड -19 के अतिरिक्त प्रबोधकों की डी.पी.सी.करने,शारीरिक शिक्षकों की डी.पी.सी.हेतु विद्यार्थी संख्या का अनुपात समाप्त करने की बात पर विचार-विमर्श हुआ।इसका एक ज्ञापन भी सरकार को प्रेषित करने की बात कही गयी।
सभी उपशाखाओं के प्रतिनिधियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से ब्लॉक स्तर पर मीटिंग आयोजन कर उसकी रिपोर्ट जिला कार्यकारिणी को प्रेषित करने को कहा गया।
मीटिंग में मांगीलाल मेघवाल,जगदीश डांगी,जवरीलाल विश्नोई,मंडोर ब्लॉक अध्यक्ष हीराराम विश्नोई,दयालराम चौधरी,ओमसिंह राठौड,माणकराम,गोरधनराम जाखड़,हुकमाराम कूकणा,भंवरलाल सिरोही,ओसियां ब्लॉक से अर्जुनराम विश्नोई,रिड़मलराम सियाग एवं अन्य शिक्षक साथी उपस्थित रहे।
मीटिंग के अंत में कोविड-19 में चेक-पोस्ट पर ड्यूटी करते हुए सड़क दुर्घटना का शिकार हुए शारीरिक शिक्षक मनफूल सेंवर के निधन पर शोक जताया गया एवं उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की गयी।

राजस्थान शिक्षक संघ(शेखावत),
जिला शाखा जोधपुर

Share this news:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *