शेरगढ़ के हेमंत मेघवाल बने सेना में लेफ्टिनेंट, ग्रामीणों ने दी बधाई।

डी.आर.धांधल सोलंकियातला

जोधपुर । शूरवीरों की सरजमीं शेरगढ़ के लाल हेमंत मेघवाल के सैन्य अधिकारी बनने पर शेरगढ़ के नागरिकों का गर्व से सीना फुल रहा है।
मिली जानकारी के अनुसार लेफ्टिनेंट हेमंत कुमार पुत्र भोमाराम धान्धल (मेघवाल)जिनका जन्म शूरवीरों की सरजमीं शेरगढ़ के जैतसर गांव सेतरावा मे हुआ,हेमंत क्षैत्र का सबसे कम उम्र से बना प्रथम सैन्य अधिकारी हैं, जिन्होंने OTA GAYA (अफ़सर प्रशिक्षण अकादमी) में सीधे चयनित होकर शेरगढ़ के सबसे कम उम्र के सैन्य अधिकारी के रूप में सेना में लेफ्टिनेंट पद प्राप्त किया हैं।
इन्होंने भारतीय सेना के पुणे स्थित मिलिट्री इंजीनियरिंग कॉलेज (CME)CTW के माध्यम से भारतीय सेना में 13 जून 2020 को कैडेट पास आउट परेड कर भारतीय सेना का कमीशन (लेफ्टिनेंट पद) प्राप्त किया।
जिससे समूचे शेरगढ़ क्षेत्र के युवाओं में वर्षों से चला आ रहा देश सेवा का जो जज्बा है उसको बरकरार रखते हुए मेघवाल समाज से निकले लेफ्टिनेंट हेमंत कुमार धांधल ने सब को गौरवान्वित किया है।
लेफ्टिनेंट हेमंत धान्धल को इस पद पर पहुंचने की प्रेरणा अपने दादा RACरिटायर्ड स्व. शिवलाल मेघवाल व छोटे दादा आर्मी रिटायर्ड स्व.मघाराम से मिली थी।हेमंत के देश सेवा के जज्बे को देखते हुए इनके पिता भोमाराम जो स्वयं भारतीय सेना से सेवानिवृत्त है इन्होंने बाबासाहेब अंबेडकर जी के सिद्धांतों पर चलकर शिक्षा को ही महत्वपूर्ण मानते हुए अपने बेटे को उच्च शिक्षा दिलवाई जिसका परिणाम आज देश के सामने हैं,शेरगढ़ की जनता अपने लाडले बेटे लेफ्टिनेंट हेमंत को सैन्य अधिकारी के रूप में देख गर्व महसूस कर रही हैं।
यह सब संभव हुआ है लेफ्टिनेंट हेमंत के जोश,जुनून,जज्बे व कठोर मेहनत से जिस पर बच्चों-बुड्ढों, युवाओं नौजवानों व समूचे शूरवीरों के गढ़ शेरगढ़ को गर्व है।

Share this news:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *