गुजरात राज्य का एकमात्र जिला डांग कोरोना मुक्त..

– मनीष पालवा

डांग जिले में 5 कोरोना के सकारात्मक मामले दर्ज हुए थे। जो पूरी तरह स्वस्थ होने पर आज जिले में एक भी सकारात्मक मामला नहीं है।  वहीं जिले में कोरोना वायरस से एक भी मौत नहीं हुई है। कोरोना से डांग जिले की मुक्ति के साथ, जिले के लोगों का जीवन सामान्य हो गया है।

दुनिया में कोरोना वायरस की एक महामारी है। कोरोना वायरस का प्रभाव भारत में भी व्यापक रूप से फैला है। गुजरात के सभी जिलों में कोरोनो वायरस के मामले सामने आए। जिनमें से एकमात्र डांग जिला अब कोरोना से मुक्त है। वर्तमान में जिले में कोरोना का एक भी मामला सक्रिय नहीं है। जिसके कारण डांग जिला अब ग्रीन जोन की ओर बढ़ रहा है। जिले की कोरोना मुक्ति के साथ, जिले के लोगों का जीवन सामान्य हो गया है। डांग जिले को कोरोना मुक्त बनाने में जिला प्रशासन सफल रहा है। प्रारंभ में जब कोरोना शब्द सामने आया, तब जिला प्रशासन ने सूक्ष्म नियोजन के माध्यम से कोरोना वायरस के खिलाफ बचने के लिए एहतियाती उपायों के बारे में जानकारी दी। जिला स्वास्थ्य  विभाग द्वारा लोगों को वायरस के प्रति जागरूक किया गया।जब प्रधान मंत्री मोदी ने कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए लॉकडाउन की घोषणा की, तो लॉकडाउन को यहाँ बहुत बड़ी प्रतिक्रिया मिली। लोगों ने लॉकडाउन का सख्ती से पालन किया और कोरोना वायरस को हराया।

24 मार्च में पहला लॉकडाउन की घोषणा के बाद अप्रैल में तीन युवा महिलाओं के कोरोना सकारात्मक मामले सामने आए थे। जिले के सीएचसी अस्पताल के कोविड केयर सेंटर में युवतियों को आइसोलेट कर दिया गया। जिसके बाद 28 मई तक कोरोना का एक भी सकारात्मक मामले  नहीं आए। जिस कारण डांग कलेक्टर एन.के.डामोर द्वारा डांग जिले को ग्रीन जोन जिला घोषित किया गया। जिसके बाद, 5 जून को दो महिलाओं के कोरोना के सकारात्मक मामले सामने आने पर डांग कलेक्टर ने एक अधिसूचना जारी की गई। कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए लोगों की गतिविधियों पर फिर से रोक लगा दी गई। जिस कारण आज तक एक भी करोना का पॉजिटिव केस न होने पर डांग जिला कोरोना मुक्त हुआ है।

जिला पंचायत के आधिकारिक अधिकारी के अनुसार, जिला कुल मिलाकर 1454 कोरना के सेंपल लिए गए हैं। जिसमें से 1421 कोरोना रिपोर्ट नकारात्मक आ गई है जब 28 रिपोर्ट पेंडिग में है। 19 लोगों को जिले में कोरन्टीन किया गया है। जब 1844 व्यक्ति ने अपने कोरोन्टाइन अवधि को पूरा कर लिया है। डांग जिले के दो कंटेनमेंट जोन हनुमतचोंट और सुंन्दा गांव में आरोग्य विभाग द्वारा डोर टू डोर सर्वे किया गया जिसमें ILC(0 CASE) और SARI(0 CASE) कोई मामला सामने सामने नहीं आने पर  कोई सेम्पल नहीं लिया गया।

कोरोना से डांग जिले की मुक्ति के बाद, डांग कलेक्टर एन.के.डामोर ने कहा कि कोरोना से डांग जिले को मुक्त बनाने के लिए जिला प्रशासन का केंद्रीय प्रशासन स्वास्थ्य विभाग, पुलिस विभाग, राजस्व विभाग और अन्य प्रशासनिक विभागों की गतिविधियों से जिला कोरो मुक्त हो गया है। कोरोना महामारी के बीच में प्रशासन का प्रदर्शन सराहनीय है। जब देशव्यापी लॉकडाउन की घोषणा की गई थी, तो जिले में काम से बाहर गए सभी लोगों को सुरक्षित वापस लाया गया था। इसके अलावा, कलेक्टर एन.के. डामोर ने कहा कि जिले के प्रमुख के रूप में, वह लॉकडाउन 2.0 के दौरान लोगों से सामाजिक दूरी पर विशेष ध्यान देने की अपील करते हैं। लोगों को काम के अलावा घर से बाहर नहीं जाना चाहिए और कोरोना महामारी के बारे में अपने घर परिवार के सदस्यों के साथ मोहल्ले के लोगों को कोरोना की समझ देनी चाहिए और स्वंम सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना चाहिए ताकि डांग जिला कोरोना मुक्त रहे।

Share this news:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *