बगहा सफाई कर्मियों ने अपनी मांगों को लेकर एसडीएम कार्यालय के सामने किया विरोध प्रदर्शन।

एसडीएम को ज्ञापन सौंपते हुए कहा कि नही हुई मांगे पूरी तो करेंगे अनिश्चित कालीन हड़ताल।

ANIL KUMAR SONI / COORDINATOR BIHAR

BAGAHA बगहा : अनुमंडल कार्यालय के सामने बगहा दो के सभी सफाईकर्मी कोरोना योद्धा के तौर पर निरन्तर कार्य करने वाले सफाई कर्मियों ने आज अपने हाथ उठा कर विरोध प्रदर्शन करते हुए बगहा एसडीएम विशाल राज को एक ज्ञापन सौंपे है।

जिसमे सफाई कर्मियों ने एनजीओ के खिलाफ शिकायत बया करते हुए कहा है कि जहां एक तरफ पूरे जिले में लगभग 600 कर्मचारी कोविड-19 में भी कार्य करते चले आ रहे हैं। क्या उन्हें कोरोना संक्रमण का कोई डर नही। लेकिन बिना डर और भय के परवाह किये बगैर मिले अपने कार्यों का निष्पादन करते चले आ रहे है।

बगहा अंचल और सभी थानों के साथ भारतीय स्टेट बैंक के दर्जनों की संख्या में कर्मचारियों को कोरोना पाजेटिव जैसे केस पाये गए है। इस बिकट परिस्तिथियों में भी हमलोग सभी सफाई कर्मी अपनी जान को जोखिम में डालकर इस कोरोना महामारी में भी अपने और अपने बाल बच्चों की परवाह किये बगैर नगरपरिषद के गली कूचों के कचड़े को उठाकर साफ सफाई करते आ रहे हैं। लेकिन एनजीओ के द्वरा हमे 30 दिन के बजाय 28 ही दिन का ही वेतन दिया जा रहा है। बाकी पैसों को एनजीओ के द्वारा बंदरबाट कर लिया जाता है । जब कि वहीं रामनगर में सफाई कर्मियों को 30 दिन कि मज़दूरी कुल 9500 दी जाती है। और बगहा के सफाई कर्मियों को 6500 रुपए दी जाती है ।साफाई कर्मियों ने एसडीएम को दिये गए आवेदन में ये मांग किया है कि हमलोग नगरपरिषद और सरकार से ये मांग करते हैं कि हम लोगों को 30 दिन की मजदूरी के साथ ही साथ जिस तरह कोरोना योद्धाओं को 50 लाख का बीमा सरकार ने देने का ऐलान किया है ठीक वैसे ही हमलोग भी सुविधा मुहैया कराया जाए।
हम सभी लोग उसी कोरोना योद्धा की तरह अपने कर्तब्य के प्रति पूरे समर्पित भाव से निरंतर कार्यों को करते चले आ रहे है। हमे भी कोरोना योद्धा के उन लिस्टों में में शामिल किया।
अपनी हक की मांगें करते हुए सफाईकर्मियों ने ये भी मांग की, कि हमें बीमा मिलनी चाहिए। आखिर उसे क्यों नहीं दिया जा रहा है। जब कि उत्तर प्रदेश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सफाई कर्मी के पैर को धोते हुए सफाई कर्मियों को कोरोना योद्धा बताया था । आखिर हमे हमारा हक क्यों नही दिया जा रहा है। अगर हमारी मांगे पूरी नही की गईं तो हम लोग अनिश्चित कालीन हड़ताल पर रहेंगे अन्यथा सरकार हमारी मांगों को पूरा करे और हमे भी 50 लाख का बीमा उपलब्ध कराए, ताकि अगर इस कोरोना काल में हमारे साथ कुछ अनहोनी होता है तो उस बीमा के पैसे से हमारे बाल बच्चों का पालन पोषण हो सके।

Share this news:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *