डीएम कुंदन कुमार ने गंडक के तटबंध का किया निरीक्षणनिचले इलाकों को खाली करने का दिया निदेश !

फोटो : निरीक्षण करते जोलाधिकारी

गंडक नदी के तटबंध पर पूरे जिम्मेदारी पूर्वक मॉनिटरिंग करने के साथ लोगों को जागरुक करने का जिलाधिकारी द्वारा मिला निर्देश !

ANIL KUMAR SONI / COORDINATOR BIHAR✍️अनिल कुमार सोनी / प्रभारी बिहार

BAGAHA बगहा : पश्चमी चम्पारण में मंगलवार को जिला पदाधिकारी कुंदन कुमार नगर से सटे मंगलपुर के पास गंडक नदी का तटबंध का निरीक्षण किये।
इस दौरान उन्होंने पदाधिकारियों को कई आवश्यक निर्देश दिए। अधिकारियों को निर्देशित करते हुए जिला पदाधिकारी ने कहा कि गंडक के निचले इलाकों में बसे लोगों को जागरूक करें एवं बाढ़ की संभावना को देखते हुए उन्होंने निचले इलाकों को खाली करने का निर्देश दिया। साथ ही लोगों से अपील की कि वे प्रशासन के द्वारा चयनित स्थानों पर विस्थापित हो।

विस्थापित जगहों पर लोगों को समुदायिक किचन के माध्यम से राहत मुहैया कराने का निर्देश जिला पदाधिकारी ने अधिकारियों को दिया । इस दौरान गंडक नदी में नाव के परिचालन पर अपनी नाराज़गी व्यक्त करते हुए गंडक में छोटी, बड़ी नाव के भी परिचालन पर पूर्णता रोक लगा दी। जिला पदाधिकारी ने अधिकारियों से बातें करते हुए कहा कि नदी में जलस्तर को देखते हुए किसी के भी प्रवेश पर पूर्णता मनाई रहेगी । अगर इसके बाद भी किसी के द्वारा नदी में प्रवेश किया जाता है तो संबंधित लोगों पर कार्रवाई करते हुए प्राथमिकी दर्ज की जाएगी ।

इसके साथ ही जिला पदाधिकारी ने स्थानीय पुलिस पदाधिकारियों को गंडक के तटबंधों की लगातार मॉनिटरिंग करने का निर्देश दिया । उन्होंने बताया कि बाढ़ की संभावना को देखते हुए बगहा अनुमंडल में एनडीआरएफ की दो टीमों को लगातार कैम्प कर रही है। एनडीआरएफ की टीम को निर्देशित करते हुए जिला पदाधिकारी ने कहा कि नगर के कैलाश नगर, रतनमाला ,चखनी सहित निचले इलाके के लोगों को जागरूक करते हुए उन्हें जगह खाली करने का निर्देश दिया गया। उन्हें लोगों को आश्वस्त किया की बाढ़ की इस विषम परिस्थिति में प्रशासन उनके साथ है। प्रशासनिक टीम बाढ़ को देखते हुए अलर्ट मोड में है। उन्होंने लोगों को हरसंभव राहत मुहैया कराने का आश्वासन भी दिया । इस अवसर पर जिला पदाधिकारी के अलावा एसपी राजीव रंजन ,एसडीएम विशाल राज, एसडीपीओ संजीव कुमार , बगहा दो बीडीओ प्रणव कुमार गिरी सहित जिले के कई पदाधिकारी एवं बाढ़ नियंत्रण मंडल के अभियंता आदि मौजूद थे।

लगातार हो रहे वारिस व गंडक नदी के बढ़ते जलस्तर के कारण गंडक नदी अपने उफान पर है। मंगलवार को दोपहर 12:00 बजे तक वाल्मीकि नगर बराज से लगभग साढे 4 लाख 50 हज़ार क्यूसेक पानी छोड़ा गया। जिसकी निगरानी जिलाधिकारी कुंदन कुमार ने की। जिलाधिकारी ने निगरानी के दौरान मंगलपुर घाट का निरीक्षण करते हुए कई आवश्यक दिशा निर्देश संबंधित विभाग के पदाधिकारियों को दी। निरीक्षण के क्रम में एनडीआरएफ की टीम से पूरी तरीके से तैयार रहने का निर्देश दिया। हालांकि निरीक्षण के दौरान गंडक नदी के जल स्तर में कमी पाई गई। डीएम ने सभी पदाधिकारियों से कहा कि इसे हल्के में ना लें, पानी का स्तर अभी भी बढ़ेगा सभी लोग अलर्ट मोड में रहे। बाढ़ का पानी से बचाव के लिए अलर्ट मोड में रहना जरुरी होता है। थोड़ी सी भी असावधानी बड़े हादसे को निमंत्रण दे सकता है।

Share this news:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *