TET शिक्षकों ने जिला स्तर पर किया ऑनलाइन वर्चुअल मीटिंग, सेवाशर्त में संशोधन की मांग

27 को फैमिली प्रोटेस्ट, तो शिक्षक दिवस को ‘बदला लो बदल डालो’ का शिक्षक लेंगे संकल्प !

अनिल कुमार सोनी / प्रभारी बिहार

पश्चिम चम्पारण रविवार 23 अगस्त 2020 टीईटी एसटीईटी उत्तीर्ण नियोजित शिक्षक संघ गोपगुट पश्चिम चम्पारण की जिला कार्यकारिणी की जिला स्तरीय ऑनलाइन वर्चुअल मीटिंग रविवार को संपन्न हुई। बैठक में सम्मिलित जिला स्तरीय संघीय पदाधिकारियों ने अपने अपने विचार रखे। बैठक में नई सेवाशर्त से TET शिक्षकों को होने वाले लाभ हानि बिंदु पर गहन मंथन किया गया। उक्त जानकारी TSUNSS गोपगुट पश्चिम चम्पारण के जिला सोशल मीडिया प्रभारी सुनिल कुमार राउत ने दिया और आगे कहा कि सरकार द्वारा घोषित सेवा शर्तों में राष्ट्रीय मानक का घोर उल्लंघन हुआ है जिससे TET शिक्षक उपेक्षित व ठगा महसूस कर रहें हैं और उनमें निराशा है। शिक्षकों ने सरकार से नई सेवाशर्तों में आवश्यक संशोधन कर TET शिक्षकों का अलग संवर्ग बनाने एवं सभी शिक्षकों को राज्यकर्मी एवं सहायक शिक्षक का दर्जा व पुरानी सेवाशर्त लागू करने का मांग एवं अनुरोध किया।


संघ के जिला महासचिव राजेश कुमार राय, राज्य कार्यकारिणी सदस्य मोo औरंगजेब रजा, संयोजक सोहनलाल, कोषाध्यक्ष प्रशांत प्रियदर्शी ने कहा कि संघ के दिशानिर्देश के अनुसार सेवाशर्त में TET शिक्षकों की उपेक्षा के विरोध के साप्ताहिक कार्यक्रम के तहत आगामी 27 अगस्त को बिहार के टीईटी एसटीईटी शिक्षक अपने परिजनों के साथ फैमिली प्रोटेस्ट करेंगे, वहीं शिक्षक दिवस के अवसर पर शिक्षकों द्वारा ‘बदला लो बदल डालो’ का संकल्प लिया जाएगा।साथ ही कहा कि मानव विकास की पहली शर्त शिक्षा एवं स्वास्थ्य से सरकार को कोई लेना देना नहीं है केवल वोट बैंक की राजनीति के तहत गुणवत्तापूर्ण शिक्षा एवं उसके वाहकों के साथ धोखा किया जा रहा है। जिला प्रवक्ता शुभनारायण सोनी, क्षमेन्द्र कुमार, राकेश राव, अमरेंद्र शर्मा, मोo इरशाद आदि ने कहा कि सर्व शिक्षा अभियान के तहत केन्द्र सरकार प्रति शिक्षक पच्चीस हजार रुपए देती है जबकि बिहार सरकार को शेष चालीस फिसदी हिस्सा देय है ऐसे में नियोजित शिक्षकों का वेतन चालीस हजार रुपए से अधिक हो गया लेकिन अफसोस है कि सरकार वेतन मद की राशि को अन्य महत्वाकांक्षी योजनाओं पर खर्च कर शिक्षकों का आर्थिक व मानसिक शोषण कर रही है।

जिला स्तरीय बैठक में सम्मिलित शिक्षकों ने कहा कि सरकार के पास अवसर है सेवाशर्त में संशोधन कर सुधार करते हुए राज्यकर्मी व सहायक शिक्षक का दर्जा, ग्रेच्युटी लाभ, 120 दिन के बजाय 300 दिन का ई एल, पुरुष शिक्षकों को ऐच्छिक स्थानांतरण समेत टीईटी एसटीईटी शिक्षकों को अलग संवर्ग घोषित करे।

Share this news:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *