बालेसर दुर्गावता में दीक्षा संपन्न

राजेंद्र काँकरिया बने संत राजरत्न मुनि व
शोभा जैन बनी साध्वी शुभंकरा श्री जी म.सा

दीक्षा से पूर्व में लिया गया फोटो

निर्मल जैन@बालेसर

बालेसर दुर्गावता के बङला चौहटा के नीचे आचार्य श्री रामेश के मुखारविंद से राजेंद्र काँकरिया चेन्नई व श्रीमती शोभा काँकरिया चेन्नई सांसारिक परिवेश को त्याग कर कठिन त्याग संयम पथ पर जैन भागवती दीक्षा ग्रहण की।

दीक्षा से पहले ली गयी फोटो

नए नामकरण में उनका नाम राजरत्न  मुनि और साध्वी शुभंकरा श्री के नाम की घोषणा होते ही हर्ष हर्ष जय जय के नारों से गूंज उठा पूरा गांव ,अनन्य मुनि म. सा की बड़ी दीक्षा गुरुवार को यहाँ संपन्न हुई ।आचार्य श्री रामेश ने कहा कि दृष्टि बदलने से सृष्टि बदल जाती है। मौह का परित्याग करने से ही परम मंजिल मोक्ष की प्राप्ति होती है । मनुष्य जीवन अनमोल अवसर है इसमें अधिक से अधिक श्रेष्ठ कार्य को संपादित करना चाहिए । उपाध्याय प्रवर राजेश मुनि ने त्यागी आत्माओं के उत्कृष्ट संयम भावना की सराहना की। अन्य संत व साध्वी ने भी प्रेरक उद्बोधन दिएपुत्री डॉ. रचना व दर्शना ने उज्जवल संयम जीवन की मंगल कामना की।कार्यक्रम का संचालन महेश नाहटा व श्रेयांश पारख ने किया।अखिल भारतीय साधुमार्गी संघ के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष नेमीचंद पारख, दुर्गावता जैन श्री संघ के अध्यक्ष सुमेरमल चोरड़िया  ने सभी के सहयोग के प्रति आभार व्यक्त किया।इस दीक्षा महोत्सव पर कई धर्म प्रेमी मौजूद रहे ।बालेसर दुर्गावता में पहली बार दीक्षा संपन्न होने पर चारों और खुशी का माहौल रहा।

Share this news:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *