Corona vaccination:डांग जिले में दो स्थानों पर कोविड-19 वैक्सीनेशन कार्यक्रम का हुआ शुभारंभ

– मनीष पालवा

डांग जिले के सिविल अस्पताल आहवा और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र साकरपातण इन दोनों टीकाकरण केंद्रों पर पहले दिन कुल 200 लाभार्थियों को लक्षित किया गया है।

गुजरात,आहवा-डांग:
आहवा:दिनांक-16:”कोरोना” के खिलाफ रक्षा करने वाली वैक्सीन जिसे देश के लोग बेसब्री से इंतज़ार कर रहे थें यह वैक्सीन गुजरात में आ जाने से केंद्र सरकार के मार्गदर्शन में इस वैक्सीन का चरणबद्ध टीकाकरण कार्यक्रम के शुरू होने से देश के लोगों में नई आशा और उत्साह का संचार हुआ है।यह बात डांग जिले के मुख्यालय आहवा में मंत्री श्री गणपत सिंह वसावा ने कही।

गुजरात को “कोविशिल्ड वैक्सीन” प्राप्त हुई है जो सीरम इन्स्टीट्यूट ऑफ इंडिया, पुणे द्वारा तैयार की गई है। जो भारत सरकार के मार्गदर्शन में राज्य सरकार द्वारा चरणबद्ध टीकाकरण कार्यक्रम तैयार किया गया है।तदनुसार कार्यक्रम को आज से पूरे देश में शुरू किया गया है, यह कहते हुए कि मंत्री ने आगे कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्रभाई मोदी और मुख्यमंत्री श्री विजयभाई रूपानी कार्यक्रम की बारीकी से निगरानी कर रहे हैं।

“कोरोना” के खिलाफ वेक्सिनेशन ने देश के लोगों को नई आशा और उत्साह का संचार किया है- वन, आदिजाति, महिला और बाल कल्याण मंत्री श्री गणपतसिंह वसावा।

डांग जिले के आहवा सिविल अस्पताल में टीकाकरण का शुभारंभ करते हुए, मंत्री ने कहा कि विधायक विजयभाई पटेल की उपस्थिति में, साकरपातण प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है।

यह बताते हुए कि 28 दिनों के अंतराल के बाद फिर से उसी कंपनी के टीके की दूसरी खुराक लेना आवश्यक है, श्री वासवा ने कहा कि दूसरी खुराक लेने के बाद, हमारा शरीर 14 दिनों के बाद इस बीमारी से सुरक्षा पाने के लिए तैयार है।

भारत सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुसार पहले इस टीके को देकर प्राथमिकता समूह की रक्षा की जाएगी, मंत्री ने कहा कि सरकार ने कोविद -19 की सभी शोध प्रक्रिया के अनुसार तैयार इस वैक्सीन के सभी अनुसंधान डेटा का अध्ययन करने के बाद ही इसके उपयोग के लिए स्वीकृति दी है।

कोरोना से बचाने, इसके संक्रमण को रोकने और कोरोना के कारण दर्ज मृत्यु दर को कम करने के लिए वैक्सीन लेना आवश्यक है।उन्होंने कहा कि टीका लगने के बाद भी, सामाजिक दूरी,फेस मास्क और बार-बार हाथ धोने जैसी आदतों को चालु रखना चाहिए।

टीकाकरण के लिए लाभार्थियों के ऑनलाइन पंजीकरण के साथ, श्री गणपत सिंह वसावा ने उन्हें संदेश के माध्यम से टीकाकरण की तारीख, समय और स्थान के बारे में सूचित करने की कार्यान्वित विधि का विचार दिया। उन्होंने कहा कि प्रमाण की जांच के साथ-साथ उन्हें ऑनलाइन प्रमाण पत्र की सुविधा भी मिलेगी।

डांग जिले के अतिरिक्त आरोग्य अधिकारी डॉ.संजय शाह के अनुसार इस “वैक्सीन” का डांग जिले में पहले चरण में 2112 हेल्थ केयर वर्कर के साथ 9184 फ्रंट लाइन वर्कर, 43,637 फिफ्टी प्लस से अधिक नागरिक, और 15 से 20 साल के आयु वर्ग में 1968 कॉ-मोर्बीट लोगों के साथ कुल 52,707 नागरिक को कोविशील्ड वैक्सीन का प्रथम डोज दिया जाएगा।उसके बाद, इस कार्य को चरणों में आगे बढ़ाया जाएगा, उन्होंने कहा कि पूरे कार्यक्रम को श्री शाह डांग जिला कलेक्टर श्री एन.के=डामोर और जिला विकास अधिकारी श्री एच.के.वढवानिया के मार्गदर्शन में अच्छी तरह से आयोजित किया गया है।

जिला महामारी नियंत्रण अधिकारी डॉ डी.सी.गामित ने कहा कि डांग जिले में अब तक कुल 159 सकारात्मक मामले सामने आए हैं, जिनमें से 21 मामले सक्रिय थे और 138 रोगियों को छुट्टी दे दी गई थी। उन्होंने कहा कि जिला स्वास्थ्य विभाग द्वारा अब तक कुल 29345 कोरोना परीक्षण किए गए हैं।

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्रभाई मोदी द्वारा टीकाकरण कार्यक्रम के शुभारंभ का सीधा प्रसारण देख कर आहवा सिविल अस्पताल में आयोजित वैक्सीन कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया। डांग जिले के दोनों टीकाकरण केंद्रों पर पहले दिन कुल 200 लाभार्थियों को लक्षित किया गया है।

इस कार्यक्रम में मंत्रीश्री गणपतसिंह वसावा के सहित सामाजिक कार्यकर्ता सर्वश्री श्री दशरथ पवार, बाबूराव चौर्या, मंगलभाई गावित और अशोकभाई धोरजिया, कलेक्टर श्री एन.के.डामोर, उप वन संरक्षक श्री निलेश पंड्या, अपर कलेक्टर-व-प्रायोजना अधिकारी श्री के.जी.भगोरा, प्रांतीय अधिकारी सुश्री काजल गामित, अतिरिक्त जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.संजय शाह, सिविल सर्जन डॉ.रश्मिकांत कोंकणी, स्वास्थ्य विभाग की टीम, लाभार्थी आदि उपस्थित थे।

Share this news:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *