“पोलियो रविवार” डांग में पहले दिन 26 हजार 565 बच्चों को पोलियो की दवा पिलाई गई

– मनीष पालवा

गुजरात,आहवा-डांग:
दिनांक-1: राष्ट्र के बाकी हिस्सों की तरह डांग जिले में भी पोलियो निर्वासन के इरादे से, 31 जनवरी को डांग जिले में “पोलियो रविवार” मनाया गया।डांग जिले में “पोलियो रविवार” के उत्सव के हिस्से के रूप में, अपर कलेक्टर श्री टी.के.डामोर, ने सुबह-सुबह आहवा सिविल अस्पताल में लाभार्थी बच्चों को पोलियो वैक्सीन की दो बूंदें देकर टीकाकरण कार्यक्रम शुरू किया।

इस अवसर पर अतिरिक्त जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. संजय शाह, जिला महामारी नियंत्रण अधिकारी डॉ.डी.सी.गामित, सिविल सर्जन डॉ.रश्मिकांत कोकानी, पिंपरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सा अधिकारी और उनकी टीम सहित स्वास्थ्य विभाग और सिविल अस्पताल के कर्मचारी उपस्थित थे, और अपनी भूमिका निभाई।

स्वास्थ्य विभाग द्वारा प्राप्त विवरण के अनुसार, डांग जिले के अहवा तालुका में 4 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, बघई तालुका में 3 और सुबीर तालुका में 3 साथ कुल 10 प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर सर्वेक्षण के आधार पर अनुमानित 31 हजार 187 जितने  0 से 5 वर्ष की आयु के बच्चे सहित नवजात शिशुओं (लगभग 12%) साथ कुल 36 हजार 799 शिशुओं को पोलियो की दो बूंद का लक्ष्य दिया गया है। जिसके लिए जिला स्वास्थ्य विभाग द्वारा कुल 219 जितने पोलियो बूथ स्थापित किए गए थे और 49 ट्रांजिस्टर पॉइंट भी कार्यरत किए गए थे।

इस राष्ट्रीय ऑपरेशन के लिए जिसे पूरे राष्ट्रीय कार्य के लिए  10 मोबाइल टीमों सहित 497 टीमों का गठन किया गया था और चयनित कर्मचारी इस ऑपरेशन में लगे हुए थे।प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों के चिकित्सा अधिकारियों के अलावा, 62 पर्यवेक्षक, 1066 स्वास्थ्य कार्यकर्ता और 72 वाहनों को काम पर रखा गया था।

डांग ज़िले के आहवा तालुका के सापुतारा, गाढ़वी, गलकुंड और पिंपरी के अलावा बघई तालुका के कालीबेल,झावडा और साकरपातण और सुबीर तालुका के शिंगाना, गारखड़ी और पीपलदहाड़ प्राथमिक आरोग्य केंद्र के कार्य क्षेत्र में सामील डांग जिले के 311 गांवों के 52 हजार 199 घरों में दर्ज 0 से 5 वर्ष के आयु वर्ग के लक्षित बच्चों में, स्वास्थ्य विभाग ने पहले दिन 26 हजार 565 बच्चों को पोलियो वैक्सीन की दो बूंदें देने और विभिन्न ट्रांजिस्टर पॉइंट पर 2 हजार 334 बच्चों को पोलियो टीकाकरण लगाने में सफलता हासिल की है।

उल्लेखनीय है कि पोलियो टीकाकरण का यह अभियान तीन दिनों तक चलाया जाना है। इस बीच, स्वास्थ्य विभाग यह सुनिश्चित करने के लिए सतर्कता बरत रहा है कि एक भी बच्चा पोलियो ड्रॉप से ​​वंचित न रहे

Share this news:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *