गाढ़वी गांव में ‘संवेदना दिवस’ पर आयोजित कार्यक्रम में ‘मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना’ सहित ‘सेवा सेतु’ कार्यक्रम का लाभ उठा रहे ग्रामीण

– मनीष पालवा

गुजरात,आहवा-डांग:
दिनांक-2:संवेदनशील राज्य सरकार के जनोन्मुखी दृष्टिकोण का विचार देते हुए डांग कलेक्टर श्री भाविन पंड्या ने गाढ़वी गांव में आयोजित जिला स्तरीय संवाद दिवस कार्यक्रम के दौरान ‘पांच वर्षीय सुशासन’ कार्यक्रम मनाने के उद्देश्य को स्पष्ट किया।

मुख्यमंत्री श्री विजयभाई रूपाणी के जन्म दिवस के अवसर पर ‘मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना’ के राज्यव्यापी शुभारंभ का वर्णन करने के साथ उन्होंने ‘सेवा सेतु’ कार्यक्रम के तौर-तरीकों का वर्णन करते हुए यहां उपलब्ध सेवाओं का अधिक से अधिक लाभ उठाने का भी अनुरोध किया।कलेक्टर श्री भाविन पंड्या ने राज्य सरकार की श्रवण तीर्थ योजना सहित विभिन्न लोकोंन्मुखी योजनाओं की जानकारी भी दी।

गाढ़वी प्राथमिक स्कूल में आयोजित ‘संवेदना दिवस’ उत्सव कार्यक्रम के दौरान सामयिक भाषण देते हुए गाढ़वी की महिला सरपंच के अलावा आहवा तालुका पंचायत के पूर्व अध्यक्ष श्री हीराभाई राउत ने राज्य सरकार के कार्यक्रमों की एक श्रृंखला का विवरण प्रस्तुत किया और इसका लाभ उठाने की वकालत की।उल्लेखनीय है कि ‘मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना’ के तहत ‘कोरोना’ के कारण अपने माता-पिता की छत्रछाया खोने वाले बच्चों को 21 वर्ष की आयु तक 4000 रुपये प्रति माह और माता-पिता में से एक की मृत्यु के बच्चों को 18 वर्ष की आयु तक 2000 रुपये प्रति माह की वित्तीय सहायता प्रदान करने की एक संवेदनशील योजना लागू की गई है। संवेदनशील मुख्यमंत्री श्री विजयभाई रूपाणी के जन्म दिवस 2 अगस्त को यह योजना राज्य भर में शुरू की गई है। जिसका उत्सव सुदूर छोर में आए डांग जिले के रजवाड़ी गांव गाढ़वी  में केक काटकर ‘संवेदना दिवस’ मनाकर समारोह का आयोजन किया गया।

डांग जिला सामाजिक सुरक्षा कार्यालय और जिला बाल संरक्षण इकाई से प्राप्त विवरण के अनुसार, डांग जिले में ‘कोरोना’ के कारण अपने माता-पिता की छत्रछाया खोने वाले कुल 13 बच्चे और 79 अन्य बच्चों के साथ कुल 92 बच्चे हैं। संवेदनशील सहायता दी जा रही है।’संवेदना दिवस: सेवा सेतु कार्यक्रम’ के तहत, डांग जिले के गाढ़वी के अलावा,बघई तालुका के साकरपातण गांव में कार्यक्रम आयोजित किया गया था, और सुबीर तालुका कार्यक्रम पीपलदहाड़ गांव में आयोजित किया गया था।

डांग के ‘सेवा सेतु’ कार्यक्रम के दौरान सामान्य प्रशासन विभाग, खाद्य-नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग, आदिवासी विकास विभाग, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग, ऊर्जा एवं पेट्रो रसायन विभाग, कृषि-किसान कल्याण एवं सहकारिता विभाग, वित्त विभाग, पंचायत – ग्रामीण आवास एवं ग्रामीण विकास विभाग, राजस्व विभाग एवं सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग जैसे 13 विभिन्न विभागों की 57 प्रकार की सेवाएं जरूरतमंद लोगों को उनके घर पर उपलब्ध कराई गईं।

गाढवी में आयोजित ‘सेवा सेतु’ कार्यक्रम के दौरान जिला पंचायत शिक्षा समिति की अध्यक्ष श्रीमती नीलम चौधरी, अहवा तालुका पंचायत अध्यक्ष श्रीमती कमलाबेन राउत, शाशक दल के नेता श्री सुरेशभाई चौधरी, गाढ़वी-चंखल,दिवानटेब्रुन के सरपंच और तालुका / जिला पंचायत सदस्यों सहित जिला विकास अधिकारी डॉ. विपिन गर्ग,पुलिस अधीक्षक श्री रविराज सिंह जडेजा, उप जिला विकास अधिकारी श्री आर.बी.चौधरी, प्रायोजन प्रशासक श्री के.जी.भगोड़ा, अपर जिला स्वास्थ्य अधिकारी श्री हिमांशु गामित और आरसीएचओ श्री डॉ. संजय शाह सहित अधिकारी एवं पदाधिकारी उपस्थित रहे और अपनी भूमिका निभाई।

कार्यक्रम के प्रारंभ में प्रांतीय अधिकारी सुश्री काजल गामित ने गणमान्य व्यक्तियों का मौखिक स्वागत किया। अंत में जिला बाल संरक्षण अधिकारी श्री चिराग जोशी ने धन्यवाद ज्ञापित किया।इस दौरान, महानुभावों व्यक्तियों ने ‘मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना’ के बाल लाभार्थियों को वित्तीय सहायता, और पौष्टिक स्नैक्स के साथ-साथ ‘गंगास्वरुप पुनर्विवाह वित्तीय सहायता योजना’ के लाभार्थियों को सहायता प्रमाण पत्र सहित शैक्षिक किट वितरित किए। मुख्यमंत्री के जन्मदिन समारोह के अवसर पर गणमान्य व्यक्तियों ने लाभार्थी बच्चों के साथ प्रिती भोजन किया और उनका उत्साह बढ़ाया। मुख्यमंत्री श्री विजयभाई रूपाणी की उपस्थिति में राजकोट में आयोजित राज्य स्तरीय कार्यक्रम का सीधा प्रसारण भी गणमान्य व्यक्तियों सहित उपस्थित लोगों ने देखा। कार्यक्रम की योजना का संचालन मामलतदार श्री धवल संगाडा एवं उनकी टीम ने प्रान्त अधिकारी के मार्गदर्शन में किया।

Share this news:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *