प्रचंड गर्मी में पक्षियों की रक्षा भी हमारा कर्तव्य पर विशेष संपादकीय

आर.के.जैन, मुख्य संपादक

Key line times

जानलेवा गर्मी का मौसम एवं चुनावी गर्मी के चलते पशु पक्षियों एवं जीव जंतुओं के जीवन संकट पर विशेष-

Keylinetimes.com

कहते हैं कि मौसमों में गर्मी का मौसम बड़ा बेदर्द बेमुरव्वत और जानलेवा होता है जिसमें पानी अमृत की तरह लोगों की जान बचाने वाला होता है। गर्मी के मौसम में पानी न मिलने पर जान चली जाती है चाहे आदमी हो चाहे जीव जंतु या पशु-पक्षी हो। इतना ही नहीं जरा सी चूक होने पर पानी के अभाव में पानी की कमी से होने वाली तरह-तरह की बीमारियां फैल जाती है और लोगों को पानी की कमी को पूरा करने के लिए अस्पतालों में ग्लूकोस के रूप में पानी की पूर्ति करनी पड़ती है। शायद इसीलिए कहा भी गया है कि रहिमन पानी राखिए बिन पानी सब सून—-। गर्मी का एक ऐसा मौसम होता है जिस में चतुर्दिक पानी का अभाव ही नहीं बल्कि पानी का अकाल पड़ जाता है और प्यास बुझाने के लाले पड़ जाते हैं।गर्मी का मौसम आते ही कुएं तालाब यहाँ तक कि छोटी नदियां नइया नाले झीलें सब सूख जाती हैं और हैंडपंपों नलकूपों में पानी आना कम या बंद हो जाता है और चारों तरफ पानी के लिए हाहाकार मच जाती है। एक समय वह भी था जबकि लोग राहगीरों के लिये जगह जगह प्यास बुझाने के लिए प्याऊ खोलकर लोगों की प्यास बुझाकर पुण्य कमाते थे। इतना ही नहीं पहले तालाबों नदियों पोखरों झीलों में साल के बारहों महीने पानी उपलब्ध रहता था लेकिन आज स्थिति यह हो गई है कि गर्मी आते ही हर जगह पानी का अकाल पड़ जाता है और गर्मी से जनजीवन ही अस्त-व्यस्त नही हो हो जाता है बल्कि जान बचाने के लाले पड़ जाते हैं। गर्मी के मौसम में सबसे ज्यादा दिक्कत पशु पक्षियों एवं जीव-जंतुओं को होती है क्योंकि उनके सामने प्यास बुझाने का कोई दूसरा विकल्प नहीं होता है। यही कारण है कि हमारे यहां लोग गर्मियों में जंगली जानवरों एवं पशु पक्षियों की जान बचाने के लिए घरों गांवों के आसपास पानी की व्यवस्था करते थे ताकि किलो की जान पानी के अभाव में न जाने पाये। इतना ही नहीं इधर बरसात कम होने के कारण पिछले काफी दिनों से गर्मी के मौसम में पशु पक्षियों एवं जीव जंतु की प्यास बुझाने के लिए सरकार द्वारा तालाबों में पानी भरवाया जाता है लेकिन इस बार गर्मी के मौसम में लोकसभा चुनाव होने के नाते तालाबों में पानी नहीं भराया जा सका है जिसकी वजह से इस बार की गर्मी पशु पक्षियों जीव जंतुओं के लिये काफी दुखदायी साबित हो रही हैं और पशु पक्षियों एवं जीव जंतुओं को जान बचाने के लाले पड़े हुए हैं।चुनावी गर्मी के साथ मौसमी गर्मी के चलते पारा सातवें आसमान पर चला गया है और दोनों गर्मियों ने लोगों को बेहाल कर रखा है।हम सभी लोगों से अपील करते हैं कि इस भीषण गर्मी में आवारा पशुओं जंगली जानवरों पक्षियों एवं जीव जंतुओं की प्यास बुझाने के लिए घरों के अंदर बाहर पानी की व्यवस्था कर पुण्य के भागीदार बने।

Share this news:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *