गाजियाबाद : राजनीतिक प्रशिक्षण केंद्र बनाने के लिए ध्वस्त किये जायेंगे 70 अवैध मकान

जे पी मौर्या,ब्यूरो चीफ गाजियाबाद : नंदग्राम में बन रहे राजनीतिक प्रशिक्षण केंद्र के लिए चिह्नित 51 हजार वर्ग मीटर जमीन अभी तक खाली हुई नहीं और शिलान्यास भी हो गया। गाजियाबाद के नंदग्राम में 168 करोड़ की लागत से बनने वाले इस राजनीतिक प्रशिक्षण केंद्र के लिए नगर निगम द्वारा चिह्नित की गई जमीन में से अभी तक 38 हजार वर्ग मीटर जमीन ही कब्जामुक्त है। बाकी बची जमीन पर 70 से ज्यादा पक्के मकान बने हैं। अब राजनीतिक प्रशिक्षण केंद्र को बनाने से पहले सरकारी जमीन पर बनाए गए इन अवैध मकानों को ध्वस्त करना होगा।शासन से मंजूरी के बाद नवंबर 2018 में राजनीतिक प्रशिक्षण केंद्र के निर्माण के लिए प्रशासनिक शासनादेश जारी हो चुका है। आईआईटी इंजीनियर द्वारा चिह्नित की गई जमीन की मिट्टी का परीक्षण भी हो चुका है। इसके निर्माण की जिम्मेदारी सीएंडडीएस (कंस्ट्रक्शंस एंड डिजाइन सर्विसेज) को मिली है।
नगर निगम का संपत्ति विभाग प्रशिक्षण केंद्र के लिए पूरी जमीन का इंतजाम नहीं कर पाया है। नगर निगम के अधिकारियों ने सरकारी जमीन पर बने इन अवैध निर्माणों को चिह्नित तो करा लिया हैं, लेकिन अवैध मकानों को ध्वस्त करने से हिचकिचा रहे हैं। अपर नगर आयुक्त व संपत्ति अधिकारी आरएन पांडेय का कहना है कि आचार संहिता के बाद पुलिस बल को साथ लेकर अवैध निर्माण हटाकर राजनीतिक प्रशिक्षण केंद्र की जमीन खाली कराई जाएगी।

268 करोड़ का है पूरा प्रोजेक्ट
राजनीतिक प्रशिक्षण केंद्र के निर्माण पर पहले चरण में 168.68 करोड़ रुपये खर्च होंगे। इसके निर्माण पर कुल 268 करोड़ रुपये खर्च होंगे। उन्होंने बताया कि प्रशिक्षण के लिए बड़ा भवन बनाया जाएगा। प्रशासनिक बिल्डिंग बनाई जाएगी और इनके अलावा यहां कोर्सेज में प्रवेश लेने वाले छात्र-छात्राओं के लिए गर्ल्स व ब्वॉयज होस्टल भी बनाए जाएंगे। प्रदेश सरकार ने गाजियाबाद में पहला प्रशिक्षण केंद्र बनाने का फैसला लिया है।

Share this news:

Leave a Reply

Your email address will not be published.