दुल्हे ने 2.51लाख का टीका वापस लौटा कर अनूठी मिसाल पेश की

जिला रिपोर्टर दुर्जनराम धांधल सोलंकियातला/ की लाइन टाइम्स

जोधपुर। शादियों में टीका प्रथा को रोकने के लिए मारवाड़ में बदलाव की लहर जारी है। ऐसा ही एक उदाहरण उपखंड क्षेत्र शेरगढ़ की सोलंकियातला गांव में देखने को मिला। गांव के पशुपालन विभाग मे पशुधन सहायक पारस राम पुत्र बाबू राम मेघवाल की शादी चौरड़िया निवासी वरिष्ठ अध्यापक मोहनराम की पुत्री गरिमा के साथ बुधवार को संपन्न हुई। यहां लड़की वालों ने तोरण पर सभी रस्में पूर्ण कर दूल्हे को दो लाख 51 हजार रुपए से भरा टीका का थाल भेंट किया, लेकिन पशुधन सहायक पारस राम ने हाथ जोड़कर थाल को ससम्मान वापस लौटा दिया। शगुन की रस्म निभाते हुए सिर्फ 1 रुपए व नारियल स्वीकार किया। दूल्हे के पिता बाबूराम ने कहा कि हम बहू को बेटी के समान मानते हैं, हमें टीका नहीं, केवल अच्छी बहू चाहिए थी। इस प्रकार की कुरीतियों को समाज से खत्म करना चाहिए। इस प्रकार की पहल को समाज के मौजीज लोगों ने खूब सराहना की। इस दौरान आसुराम सेतरावा, भोजाराम, सूजाराम चोरड़िया, गोबरराम रामपुरा, जुगता राम, खेताराम, कुंभाराम,दाऊराम,लच्छाराम सहित सैकड़ों की तादात में ग्रामीण उपस्थित थे।

Share this news:

Leave a Reply

Your email address will not be published.