आर्युवैदिक चिकित्सा

Kamal jain, jaipur

छाछ(पतला मठ्ठा) पीने के फायदे

Key line times
छाछ का रोजाना सुबह-शाम खाने खाते समय सेवन करना स्वास्थ्य के लिये लाभदायक होता है। छाछ के उपयोग से मिलने वाले फायदे

Keylinetimes.com

रोग प्रतिरोधक

छाछ में हेल्‍दी बैक्‍टीरिया और कार्बोहाइड्रेट्स होते हैं साथ ही लैक्‍टोस शरीर में आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढाता है, जिससे आप तुरंत ऊर्जावान हो जाते हैं।

कब्ज भगाये

अजवाइन मिलाकर छाछ पीने से कब्ज दूर होती हैं। पेट की सफाई के लिए गर्मियों में पुदीना मिलाकर छाछ पीएं।

सुपाच्य

खाना पचाने मे सहायक। शिकायत- रोजाना छाछ में भुने जीरे का चूर्ण, काली मिर्च का चूर्ण और सेंधा नमक का चूर्ण समान मात्रा में मिलाकर धीरे-धीरे पीयें। इससे पाचक अग्रि तेज हो जाएगी।

भरपूर विटामिन

छाछ में विटामिन सी, ए, ई, के और बी पाये जाते हैं जो कि शरीर के पोषण की जरुरत को पूरा करता है।

भरपूर मिनरल्‍स

यह स्वस्थ पोषक तत्वों जैसे लोहा, फास्फोरस और पोटेशियम से भरा होता है, जो कि शरीर के लिये बहुत ही जरुरी मिनरल माना जाता है।
रोज़ना सुबह ताज़ा छाछ पीना अमृत सेवन के सामान है।

Keylinetimes.com

इससे चेहरा चमकने लगता है।

जोडो का दर्द

खाने के साथ छाछ पीने से जोड़ों के दर्द से भी राहत मिलती है।छाछ कैल्शियम मे भरपूर होती है।

पाचन क्रिया

छाछ का रोजाना सेवन करने वाले को कभी भी पाचन सबंधी समस्याएं प्रभावित नहीं करती हैं। खाना खाने के बाद पेट भारी हो जाना, अरूचि आदि दूर करने के लिए जरूर पिये

हिचकी

हिचकी आने पर छाछ में एक चम्मच सौंठ डालकर सेवन करें।

गर्मी से आराम

गर्मी के मौसम में रोजाना सुबह-शाम छाछ में भूना जीरा मिलाकर पीने से गर्मी से राहत मिलती है।

चेहरे की छुर्रियां

छाछ में आटा-बेसन मिलाकर लेप करने से झुर्रियाँ कम पड़ती हैं।

एडियों का फटना

पैर की एड़ियों के फटने पर मट्ठे का ताजा मक्खन लगाने से आराम मिलता है

सिर के बाल

सिर के बाल झड़ने पर बासी छाछ से सप्ताह में दो दिन बार छाछ पियें

मोटापा

मोटापा अधिक होने पर छाछ को छौंककर सेंधा नमक डालकर पीना चाहिए। डाइट के लिए रोज़ छाछ पीयें। यह फैट कम करती है।

स्मरण शक्ति

शाम मट्ठा या दही की पतली लस्सी पीने से स्मरण शक्ति तेज होती है

मानसिक तनाव

मानसिक तनाव होने पर छाछ का सेवन लाभकारी रहता है।

Keylinetimes.com

Share this news:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *