साहिबाबाद : डूब क्षेत्र में मकान और जमीन खरीदने बेचने वालों पर गैंगस्टर एक्ट लगाने की तैयारी

गाजियाबाद में डूब छेत्र में जो लोग प्लॉट बेच रहे या खरीद रहे हैं उनके ऊपर जिला प्रशासन गैंगस्टर एक्ट लगाने की तैयारी में है। प्रशासन ने ऐसे लोगों को पहचानने का सिलसिला शुरू कर दिया है। इसके लिए सर्वे के आदेश जारी कर दिए हैं। इस काम की शुरुआत अर्थला से की जा रही है, जहां डूब क्षेत्र में सबसे अधिक संख्या में घर बने हैं और नगर निगम ने इन्हें तोड़ने के लिए मकानों को चिह्नित कर रखा है।
बालाजी विहार, संजय कॉलोनी, इंदिराकुंज कॉलोनी, कनावनी, करहेड़ा का कुछ आंशिक क्षेत्र ऐसे इलाके हैं, जहां पर डूब क्षेत्र में मकान बने हैं। इस संबंध में सिंचाई विभाग भी कई बार रिपोर्ट बनाकर जिला प्रशासन को सौंप चुका है, लेकिन अब तक यहां पर कार्रवाई नहीं हुई है। हाल-फिलहाल में

एनजीटी की ओर से गठित यमुना कमिटी के आदेश पर डूब क्षेत्र में अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई के आदेश पर जिला प्रशासन ने इस दिशा में कदम बढ़ाना शुरू किया है। अर्थला के बाद ही अन्य इलाकों में भी जिला प्रशासन की ओर से सर्वे किया जाएगा।

बने हैं 25 हजार से अधिक मकान
सिंचाई विभाग की ओर से पिछले साल एक रिपोर्ट शासन और जिला प्रशासन को भेजी गई थी। रिपोर्ट में बताया गया था कि डूब क्षेत्र में 25 हजार से अधिक मकान बने हैं।डूब क्षेत्र में मकान बेचने वालों पर गैंगस्टर लगाने की तैयारी
डीएम रितु माहेश्वरी ने कहा, ‘कई भू माफियाओं के केस में शुरू से ही गैंगस्टर लगाया गया है। फिलहाल यह मुद्दा एडीएम फाइनैंस देख रहे हैं। इस पर सख्त कार्रवाई के आदेश दिए गए हैं।’ एडीएम फाइनैंस सुनील कुमार ने बताया, ‘ऐसे लोगों को पहचानने की शुरुआत की है जो जमीन को बेचने का काम कर रहे हैं। मामले में एक से अधिक व्यक्ति के शामिल होने पर गैंगस्टर ऐक्ट लगाया जाएगा। -सुनील कुमार, एडीएम फाइनैंस, जिला प्रशासन

अर्थला डूब क्षेत्र में बने मकान
नोट- आंकड़े विभाग के अनुमान के अनुसार।
संजय कॉलोनी 4000 बालाजी विहार 5000 इंदिराकुंज कॉलोनी 1500 कनावनी 10000 करेहड़ा 4500

Share this news:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *