कानपुर पुलिस ने वकीलों को बनाया निशाना

कानपुर पुलिस ने अधिवक्ताओं पर साधा निशाना

ब्यूरो चीफ दिलशाद अहमद मोहम्मद उमर

Key line times
योगी सरकार में कानून व्यवस्था चरमराई इसीलिये बुद्धिजीवियों की शामत आई
कानपुर,इन दिनों उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था की बात करें तो जेहन में अंग्रेजों का शासन याद आता जिस तरह अंग्रेजों के शासन में भारत का नागरिक डर डर के जीता था उसी प्रकार आज उत्तर प्रदेश के हालात हो गये है। आज योगी की पुलिस क्राइम कंट्रोल करनें में तो असफल है पर आम आदमी व समाज के बुध्धिजीवियों पर मुकद्दमे करनें में देर नही लगती।हम बात कर रहें है कानपुर बार एसोसिएशन के मंत्री रिषभ अवस्थी की जिन्होंने मीडिया को जानकारी दी कि वे दिनांक 27 अप्रेल को किसी मामले मे थाना स्वरूप नगर गए थे।जहां पर ट्रेनी दरोगा राम मोहन यादव द्बारा पैसे की मागं व जातिसूचक शब्दों का प्रयोग किया गया था।जिसका रिषभ अवस्थी ने विरोध किया तो पुलिस के उच्चाधिकारियों द्बारा उनसे जबरन समझौता नामा लिखवाया गया।उन्होंने बताया कि 29 अप्रेल को पुनः ट्रेनी दरोगा द्धारा ने उनको धमकी दी कि पहले क्या कर लिया था और अब क्या कर लोगे मेरी पावर बहुत ऊपर तक है।जिसकी शिकायत रिषभ अवस्थी ने 14 मई को कानपुर सीएमएम को लिखित मे की थी जिसमे 156/3 के शिकायत पत्र को बराबर वापस लेने का दबाव पुलिस के आला अधिकारियों द्धारा किया जा रहा है जिसकी 7 जून को सुनवाई थी उसी 7 जून को ट्रेनी दरोगा द्धारा पेशबंदी के तहत रिषभ पर एक फर्जी मुकदमा दाखिल कर दिया गया। जिस मामले को संज्ञान में लेते हुए कानपुर बार एसोसिएशन व लायर्स एसोसिएशन द्वारा कचहरी में हड़ताल की गई थी व शहर कप्तान को ज्ञापन भी दिया गया था जिसमें कप्तान ने जांच के आदेश दिए थे ऋषभ अवस्थी ने बताया कि हम वकीलों पर अत्याचार हो रहा है तो फिर आम जनता का क्या हाल होगा उन्होंने बताया कि जब पुलिस के ऊपर कोई एफआईआर होती है तो वह पीड़ित पर बराबर दबाव बनाती है व फर्जी मुकदमें पर फंसा देती है। उन्होंने बताया कि शहर कप्तान द्वारा अगर उचित कार्रवाई नहीं की गई तो बार एसोसिएशन व लायर्स एसोसिएशन के महामंत्री आगे बड़ी कार्यवाही व आदोंलन भी करेंगे।

वही बार एसोसिएशन के महामंत्री कपिल दीप सचान ने बताया कि जब पुलिस पर कोई बात आती है तो वह अपनी गलतियों को छुपा कर पीड़ित पर पूरा दबाव बनाती है जिसको हम कतई बर्दाश्त नही करेंगे। उन्होंने बताया कि पुलिस के आला अधिकारियों द्वारा अपने नीचे कार्य कर रहे अफसरों पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है तभी शहर में खुल कल क्राइम और अपराधिक घटना हो रही हैं अगर ऐसा ही रहा तो कानपुर की पुलिस अपराध रोकने में बिल्कुल नाकाम हो जाएगी। कपिल दीप सचान ने बताया कि अधिवक्ता ही पुलिस के जातियों के खिलाफ आवाज उठाता आया है और समाज में एक नई दिशा दिखाता है अगर अधिवक्ताओं के साथ भी गलत होगा तो आम जनमानस को इसांफ कौन दिलाएगा। उन्होंने ऋषभ अवस्थी के मामले में कहा कि अगर उनके मामले में अधिकारियों ने निष्पक्ष जांच नहीं की तो वह आंदोलन करने पर मजबूर हो जाएंगे।

Key line times

वहीं लॉयर्स एसोसिएशन के महामंत्री वीर बहादुर सिंह ने कहा कि अधिवक्ता ही समाज में दिशा देने का कार्य करता है अगर अधिवक्ताओं पर ही अत्याचार होगा तो पब्लिक का क्या हाल होता होगा उन्होंने बार एसोसिएशन के मंत्री रिषभ अवस्थी के लिए कहा कि हम शांत नहीं बैठेंगे और उनको पूरी तरीके से न्याय दिलाएंगे। उन्होंने बताया कि अधिवक्ताओं को ही न्याय नहीं मिलेगा तो अधिवक्ता किसी आम आदमी को न्याय कैसे दिलवाएगा और ऋषभ अवस्थी जी के मामले में अगर जांच करके दरोगा पर उचित कार्यवाही नहीं की गई तो यह लड़ाई आंदोलन में तब्दील हो जाएगी।

Keylinetimes.com

Share this news:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *