दर्द भरी दास्तान………

जा..बेटा जा इस मां की बात मान ले

प्यास से तड़प तड़प कर मौत को गले लगा रहे हैं बेचारे मूख प्राणी

जोधपुर ब्यूरो चीफ अमर यादव की लाईन टाईम्स न्यूज़

क्षेत्र में इन दिनों भयंकर गर्मी एवं लू के थपेड़ों से रेगिस्तान की धरती झुलस रही है जहां एक तरफ शेरगढ़ विधानसभा क्षेत्र के कई गांवो के लोग भारी पेयजल समस्याओं से जूझ रहे हैं पिछले दिनो आगोलाई,कोनरी,दुगर, भाटोलाई सहित अन्य गांवो मे पेयजल किल्लत को लेकर ग्रामीणो ने उच्च जलाशय पर चढ़कर मटके फोड़ कर पानी के लिए प्रदर्शन किया था।

इस चिलचिलाती धूप और लू के थपेड़ों के बीच इंसान भी पीने के पानी के लिए धरना प्रदर्शन कर रहा है,उन क्षेत्रों में इन दिनों बेचारे गोवंश का पानी बिना बुरा हाल हैं पानी के अभाव मे तड़प तड़प कर मर रहे है।

शेरगढ़ विधायक मीना कंवर राठौड़ अपने पति पीसीसी सदस्य उम्मेद सिंह राठौड़ एवं आला अधिकारियों को साथ लेकर गांव गांव ढाणी ढाणी धन्यवाद सभाओ के साथ जन सुनवाई कर रही है जनसुनवाई के दौरान विधायक महोदय के सामने ढेरों समस्याएं आ रही हैं उनमें सबसे ज्यादा समस्या पीने के पानी को लेकर आ रही है जिसको लेकर विधायक महोदय अधिकारियों को लताड़ भी लगा रही है यहा तक पेयजल समस्याओ दुरुस्त करने को लेकर अधिकारियों को पाबंद भी किया जा रहा है लेकिन भ्रष्ट एवं कामचोर अधिकारी सरकार की पॉलिसी को सही तरीके से क्रियान्वयन नहीं कर रहे हैं जिसके चलते ग्रामीणों के साथ पशु पक्षियों को गर्मियों में पीने के पानी की समस्या से गुजरना पड़ रहा है ।

क्षेत्र में इन दिनों चिलचिलाती धूप एवं गर्मी में नजर दौडा़ने पर खौफनाक तस्वीरें नजर आ रहे हैं जिसमें एक गाय का बछड़ा अपने तड़पती हुई मां के पास जाकर शायद यही कह रहा है कि उठो ना,मां मुझे बहुत प्यास लगी है,पानी के अभाव में प्यास से तड़पती गाय का जवाब यह आया,बेटा अब तो उठा नहीं जाता है,तू कहीं चला जा जहां चारे-पानी हो,अभी तेरे को मां और मेरे को भाई मानने वाले मेरे लाल मरे नहीं है,कोई न कोई तुझे जरूर मिल जाएगा!

वत्स जा तेरे प्राण ना ले ल, “जा बेटा जा इस मां की बात मान ले” यह खौफनाक तस्वीर रेगिस्तान की है जहा मूक पशु गर्मियों में पानी के अभाव से तड़प तड़प कर मर रहे हैं पिछले साल कम बारिश हुई जिसके चलते क्षेत्र के नाडी तालाब कई महीनों से सूखे पड़े हैं जिसके चलते पशु पक्षियों के बुरे हाल हैं सरकार को इसके लिए स्थान पॉलिसी बनाकर पेयजल की व्यवस्था करने की जरूरत है।

Share this news:

Leave a Reply

Your email address will not be published.