जानें ब्रेन हेमरेज के कारण, कम से कम 10 लोगों को शेयर अवश्य करें

आर.के.जैन,एडिटर इन चीफ

Key line times

ब्रेन हेमरेज क्या है?

www.keylinetimes.com

डा. महेश सिन्हा की एक बहुत उपयोगी जानकारी

मस्तिष्क आघात के मरीज़ को कैसे पहचानें?

मस्तिष्क आघात –जी वही, जिसे कईं बार ब्रेन-स्ट्रोक भी कह दिया जाता है अथवा आम भाषा में दिमाग की नस फटना या ब्रेन-हैमरेज भी कह देते हैं।
इस के बारे में डाक्टर साहब ने हमारे संवाददाता को एक उदाहरण के माध्यम से बताया –

एक पार्टी चल रही थी, एक मित्र को थोड़ी ठोकर सी लगी और वह गिरते गिरते संभल गई और अपने आस पास के लोगों को उस ने यह कह कर आश्वस्त किया कि सब कुछ ठीक है, बस नये बूट की वजह से एक ईंट से थोड़ी ठोकर लग गई थी। आस पास के लोगों ने ऐम्बुलैंस बुलाने की पेशकश भी की
साथ में खड़े मित्रों ने उन्हें होने में उन की मदद की ऐसा लग रहा था कि वह थोड़ा अपने आप में नहीं है लेकिन वह पूरी शाम पार्टी तो एकदम एन्जॉय करती रहीं। बाद में उसके पति का लोगों को फोन आया कि उसे हस्पताल में ले जाया गया लेकिन वहां पर उस ने उसी शाम को दम तोड़ दिया।

दरअसल उस पार्टी के दौरान उसको ब्रेन-हैमरेज हुआ था अगर वहां पर मौजूद लोगों में से कोई इस अवस्था की पहचान कर पाता तो आज वह हमारे बीच होती।

ठीक है ब्रेन-हैमरेज से कुछ लोग मरते नहीं है –लेकिन वे सारी उम्र के लिये अपाहिज और बेबसी वाला जीवन जीने पर मजबूर तो हो ही जाते हैं।

जो नीचे लिखा है इसे पढ़ने में केवल आप का एक मिनट लगेगा —

स्ट्रोक की पहचान

डा. साहब ने बताया कि अगर स्ट्रोक का कोई मरीज़ उन के पास तीन घंटे के अंदर पहुंच जाए तो वह उस स्ट्रोक के प्रभाव को समाप्त (reverse)भी कर सकते हैं पूरी तरह से। उन का मानना है कि सारी ट्रिक बस यही है कि कैसे भी स्ट्रोक के मरीज़ की तुरंत पहचान हो, उस का निदान हो और उस को तीन घंटे के अंदर डाक्टरी चिकित्सा मुहैया हो, और अक्सर यह सब ही अज्ञानता वश हो नहीं पाता।

स्ट्रोक के मरीज़ की पहचान के लिये तीन बातें ध्यान में रखिये –और इस से पहले हमेशा याद रखिये —-STR.

डाक्टरों का मानना है कि एक राहगीर भी तीन प्रश्नों के उत्तर के आधार पर एक स्ट्रोक के मरीज की पहचान करने एवं उस का बहुमूल्य जीवन बचाने में योगदान कर सकता है

इसे अच्छे से पढ़िये और मन में बैठा लीजिए —

S —Smile आप उस व्यक्ति को मुस्कुराने के लिये कहिए।

T– talk उस व्यक्ति को कोई भी सीधा सा एक वाक्य बोलने के लिये कहें जैसे कि आज मौसम बहुत अच्छा है।

R — Raise उस व्यक्ति को दोनों बाजू ऊपर उठाने के लिये कहें।

अगर इस व्यक्ति को ऊपर लिखे तीन कामों में से एक भी काम करने में दिक्कत है , तो तुरंत ऐम्बुलैंस बुला कर उसे अस्पताल शिफ्ट करें और जो आदमी साथ जा रहा है उसे इन लक्षणों के बारे में बता दें ताकि वह आगे जा कर डाक्टर से इस का खुलासा कर सके।

नोट करें —- स्ट्रोक का एक लक्षण यह भी है —

1. उस आदमी को जिह्वा (जुबान) बाहर निकालने को कहें।
2. अगर जुबान सीधी बाहर नहीं आ रही और वह एक तरफ़ को मुड़ सी रही है तो भी यह एक स्ट्रोक का लक्षण है।

एक सुप्रसिद्ध कार्डियोलॉजिस्ट का कहना है कि अगर इस पोस्ट को पढ़ने वाला इसे आगे दस लोगों को भेजे तो शर्तिया तौर पर आप एक बेशकीमती जान तो बचा ही सकते हैं ….
और यह जान आप की अपनी भी हो सकती है -।

समय गूंगा नहीं बस मौन है,
वक्त पर बताता है किसका कौन है।

इस पोस्ट को पढकर कम से कम अपने 10 दोस्तों, व्हाट्सएप ग्रुप्स, सोशल साइट्स, फेसबुक आदि पर अवश्य शेयर करें जिससे कि ब्रेन हेमरेज से पिडित इंसान की जान बचायी जा सके।

आर.के.जैन,एडिटर इन चीफ

सूचना एंव प्रसारण मंत्रालय भारत सरकार के अंर्तगत आर.एन.आई. से रजिस्ट्रड, राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से लगातार तीन वर्षों से प्रकाशित, राष्ट्रीय हिंदी पाक्षिक समाचार पत्र

Key line times

www.keylinetimes.com

Youtube.. keyline times

7011663763,9582055254

Share this news:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *