सेवा के लिए उम्र नहीं जज्बा होना चाहिए इसकी मिसाल कायम कर रहे हैं अंशुल जैन

जेपी मौर्या, ब्यूरो चीफ, गाजियाबाद, कहते हैं कि मानवता ही सबसे बढ़ा धर्म है, मानवता से बढ़कर कोई धर्म नहीं। जो मानव दुसरो की मदद करता है,

अधिक से अधिक परिश्रम करता है वही मनुष्य सच्चा मानव कहलाता है। मानवता हमें दयालु और मददगार होना सिखाती है। भीलवाड़ा जिले के बिजोलिया कस्बे के 20 वर्षीय युवा अंशुल जैन अपने माता पिता और बड़ी बहन की प्रेरणा से जिंदगी के एक अलग ही रास्ते पर अपनी कहानी लिख रहे है। कहते है रास्ते नेक हो तो अपने आप मंजिल के फासले कम होते दिखाई देने लगते है।

अपने दुख में रोने वाले मुस्कुराना सीख ले

किसी दूसरे के दुख दर्द में आंसू बहाना सीख ले

यह जिंदगी सिर्फ चार दिनों की

तू किसी के काम आना सीख ले

यह पंक्तियां बहुत सटीक बैठती है अंशुल जैन बिजौलियां पर क्योंकि जिस उम्र में युवा अपनी बचत एवं पॉकेट मनी को बुरे व्यसन भोग विलासिता में खर्च कर देते हैं। वहीं 20 वर्षीय अंशुल जैन बिजौलियां अपनी बचत से एवम अन्य कामों से प्राप्त पैसों को बचाकर पिछले 4 वर्षों से समाजसेवा का अतुलनीय कार्य कर रहे हैं। इतनी सी अल्प आयु में अंशुल जैन 7 जिलों की 11 से अधिक राजकीय विद्यालयों में शिक्षण सामग्री , बालक -बालिकाओ के लिए जूते- मोजे, विद्यार्थी पहचान पत्र ,आदि वितरित कर चुके है। हम अपने जीवन में अपने खुद के द्वारा किये गए कार्यो से कितने प्रसन्न होते है यदि कार्य दुसरो को समर्पित हो तो आत्मा को नयी ऊर्जा मिलती है

अंशुल जैन एक दर्जन से भी ज्यादा समाज सेवी संस्थाओ से जुड़कर राजस्थान के हर जिले में अंत्योदय टॉयज बैंक के संस्थापक महेंद्र जी मेहता मुंबई के सहयोग से राजकीय विद्यालयों में टॉयज बैंक की स्थापना करवा रहे है। साथ ही वस्त्र बैंक ,रोटी बैंक तथा बच्चों के लिए स्टेसशनरी बैंक के माध्यम से समाज सेवा में सक्रिय योगदान दे रहे हैं।

दो बार राष्ट्रपति द्वारा सम्मानित पर्यावरणविद प्रोफेसर श्याम सुन्दर जी ज्यानी के परिवार प्रोजेक्ट वानिकी से जुड़कर 100 से अधिक स्कूलों में पौधरोपण का कार्य कर चुके है।

अंत्योदय संस्था से जुड़कर राज्य के 60 से अधिक राजकीय विद्यालय में खिलौना बैंक की स्थापना में अपना अतुलनीय सहयोग भी दिया।

रोटी बैंक से जुड़कर अपना आर्थिक सहयोग तो देते ही हैं साथ लोगों को भी इस पहल के लिए प्रेरित करते हैं।

आगे के प्रोजेक्ट

साल भर में 2100 पेन 70 से ज्यादा विद्यालय में वितरित करेंगे शिक्षा से वंचित बच्चों को शिक्षा से जोड़ा जा सके उनकी मदद के लिए सब आगे आये ।।

सम्मान

अभी हाल ही में अंशुल द सोशल हीरो अवार्ड 2019 से हरियाणा में सम्मानित हुवे।।

मेरिट में आए अंशुल जैन बिजौलियां प्रशासनिक सेवा के अधिकारी बनना चाहते है। समाजहित के लिए कई नवाचारों को धरातल पर लाने का प्रयास कर रहे है। इन सभी कार्य में मार्गदर्शन टीम संकल्प के सदस्य सिंटू जैन, संयम जैन, आयुष जैन, मयंक जैन करते है। प्रतिवर्ष वह अपना जन्मदिन जरूरतमंद बच्चों के बीच जाकर मनाते हैं। वहीं ग्रीष्म काल में जीव दया के लिए बड्र्स हाउस, परिंडे स्वयं तो लगाते ही है साथ ही दूसरों को भी प्रेरित करते है।

इन गतिविधियों से जुड़े हैं अंशुल

हर लब पर मुस्कान हो -खिलौना बैंक

हर तन पर कपड़ा हो -वस्त्र बैंक

हर भूखे को भोजन मिले -रोटी बैंक

हर बच्चे को शिक्षा मिले -स्टेशनरी बैंक

Share this news:

One thought on “सेवा के लिए उम्र नहीं जज्बा होना चाहिए इसकी मिसाल कायम कर रहे हैं अंशुल जैन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *