यदि अचानक जान जाती दिखाई दे रही है तो कुछ सामान्य उपायों के द्वारा कैसे बचायें जान

कमल जैन जी,जयपुर, प्रदेश उपाध्यक्ष राजस्थान

“उपभोक्ता एंव मानव अधिकार रक्षा समिति”

Key line times

www.keylinetimes.com

यदि अचानक जान पर बन आये तो जिंदगी बचाने के अचूक तरीके

1.गले में कुछ फँस जाए-

तब केवल अपनी भुजाओं को ऊपर उठाएं :- एक 56 वर्षीय दादी घर पर टेलीविज़न देखते हुए फल खा रही थी। जब वो अपना सर हिला रही थी तब अचानक एक फल का टुकड़ा उसके गले में फँस गया। उसने अपने सीने को बहुत दबाया पर कुछ भी फायदा नहीं हुआ। जब बच्चे ने दादी को परेशान देखा तो उसने पूछा कि “दादी माँ क्या आपके गले में कुछ फँस गया है?” वो कुछ भी उत्तर नहीं दे पाई।
मुझे लगता है कि आपके गले में कुछ फँस गया है। अपने हाथ ऊपर करो, हाथ ऊपर करो
दादी माँ ने तुरंत अपने हाथ ऊपर कर दिए और वो जल्द ही फँसे हुए फल के टुकड़े को गले से बाहर थूकने में कामयाब हो गयी। उसके पोते ने बताया कि ये बात उसने अपने विद्यालय में सीखी थी।

2.सुबह उठते वक्त होने वाले शरीर के दर्द:-

सुबह उठते वक्त शरीर में दर्द होता है या सुबह उठते वक्त गर्दन में दर्द और अकड़न महसूस हो तो अपने पांव ऊपर उठाएं। अपने पांव के अंगूठे को बाहर की तरफ खींचे और धीरे धीरे उसकी मालिश करें और घड़ी की दिशा में एवं घड़ी की विपरीत दिशा में घुमाएँ ।

3.पांव में आने वाले बॉयटा या ऐठन:-

यदि बाएँ पांव में बॉयटा आया है तो अपने दाएँ हाथ को जितना ऊपर उठा सकते हैं उठायें और यदि बॉयटा दाएँ पांव में आया है तो अपने बाएँ हाथ को जितना ऊपर ले जा सकते हैं ले जायें। इससे आपको तुरंत आराम आएगा।

4.पांव का सुन्न होना:-

यदि बायां पांव सुन्न हो तो अपने दाएं हाथ को जोर से बाहर की ओर झुलायें या झटके दें। यदि दायां पांव सुन्न है तो अपने बाऐं हाथ को जोर से बाहर की ओर झुलायें या झटका दें।

5.आधे शरीर में लकवा :-

सुई लेकर तुरन्त ही कानों की लोलिका के सबसे नीचे वाले भाग में सुई चुभा कर एक एक बूंद खून निकालें | इससे रोगी को तुरंत आराम आ जायेगा। उस पर से सब पक्षाघात के लक्षण भी मिट जायेंगे।

6.ह्रदय आघात की वजह से हृदय का रुकना:-

ऐसे व्यक्ति के पांव की दसों उंगलियों में सुई चुभो कर एक एक बूंद रक्त की निकालें | इससे रोगी तुरन्त उठ जाएगा।

7.रोगी को सांस लेने में तकलीफ हो:-

चाहे ये दमा से हो या ध्वनि तंत्र की सूजन की वजह या और कोई कारण हो, जब तक कि रोगी का चेहरा सांस न ले पाने की वजह से लाल हो उसके नासिका के अग्रभाग पर सुई से छिद्र कर दो बून्द काला रक्त निकाल दें |
उपरोक्त सभी तरीकों से कोई खतरा नहीं है और ये केवल 10 सेकेंड में ही किये जा सकते है। सच्चा स्नेह करने वाला केवल आपको बुरा बोल सकता है कभी आपका बुरा नहीं कर सकता क्योंकि उसकी नाराजगी में आपकी फिकर और दिल में आपके प्रति सच्चा स्नेह होता है।

आर.के.जैन,एडिटर इन चीफ

Share this news:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *