अणुव्रत संत आचार्य श्री महाप्रज्ञ जी की जन्माशताब्दी पर विशेष

सुरेंद्र मुनोत,स्टेट चीफ रिपोर्टर, पश्चिम बंगाल

आर.के.जैन,एडिटर इन चीफ

Key line times

www.keylinetimes.com

Youtube.. keyline times

7011663763,9582055254

आचार्य महाप्रज्ञ की १०० वीं जन्म शताब्दी पर……..
हे देव, तुम न जाने
कहां विलीन हो गए
इस जहां को छोड़कर
किस जहां में लीन हो गए ।
याद आता है, वो तुम्हारा,
शांत, स्निग्ध मुखमंडल
आंखों में बहता था
पीयूष कल – कल. ।
विचारों का चिंतन था
गूढ़ और गहन
समझाते थे कहानियों के साथ
बनाकर सहज ।
समाधान देगा, प्रेक्षाध्यान
जन जन को था ,पाठ पढ़ाया
आत्मा धुली,सम्यक्त्व जगा
उज्जवल बन गई काया. ।
तुममें थी गुरु के प्रति
भक्ति निष्ठा आलौकिक
शिष्यों को करती रहती
तुम्हारी सद्प्रेरणा उत्साहित ।
हे चैत्य पुरूष, कैसी अनुपम थी
वो कोमल काया
बार-बार था निहारा
पर मन नहीं भर पाया ।
तुम्हारा अद्वितीय आभामंडल
जिससे घट-घट दीप जले
नया मानव, नया विश्व
धर्म के थे सूत्र पले।
मन के जीते जीत,जैन योग
और भिक्षु विचार दर्शन
मेरी दृष्टि मेरी सृष्टि
ये हैं चेतना के उध्वारोहण।
न जाने ऐसी कितनी है,
तुम्हारी अनुपम कृतियां
शब्द सीमित है,गुण असीम है
अनोखी है. वृतियां ।
तुम थे धरा पर …
एक पुरुष अवतारी
वैशाखी ग्यारस को छोड़ गये
स्तब्ध नर और नारी ।
हे देव कमी खलती है तुम्हारी
अर्जी हमारी स्वीकार लो
प्यासी धरती, प्यासा जनमानस
पुनः एकबार अवतार लो
पुनः एकबार अवतार लो ।
संस्थापक एंव राष्ट्रीय अध्यक्ष

“उपभोक्ता एंव मानव अधिकार रक्षा समिति”

” युनिटी आफ प्रैस एण्ड मिडिया ऐसोसिएशन”

“अहिंसात्मक विचार एंव जागरुकता संघ”

Share this news:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *